मंत्री ने विद्या बालन को डिनर पर बुलाया, विद्या ने कहा- नो, फिर जो हुआ…

भोपाल : बॉलीवुड अभिनेत्री विद्या बालन इन दिनों अपनी अपनी अपकमिंग फिल्म ‘शेरनी’ की शूटिंग में व्यस्त हैं। पिछले दिनों इसी के शूटिंग के लिए वह मध्यप्रदेश पहुंची थी। यहां उनके साथ एक अजीब घटना घटी। दरअसल, जिस दिन विद्या बालन एमपी पहुंची उसी दिन विद्या बालन से मिलने प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह पहुंच गए। वन मंत्री ने मुलाकात के बाद विद्या बालन को डिनर का न्योता दिया। विद्या बालन थोड़ी असहज हो गईं, उन्होंने मंत्री की पेशकश ठुकरा दी। इसके बाद विद्या बालन के साथ जो हुआ वह उनके सोच के परे था।

आठ नवंबर को की थी वन मंत्री से मुलाकात

जानकारी के मुताबिक, ‘शेरनी’ फिल्म की प्रोडक्शन यूनिट ने 20 अक्तूबर से 21 नवंबर तक शूटिंग की स्वीकृति ली थी। जब विद्या बालन शूटिंग के लिए पहुंची को वन विभाग ने अभिनेत्री से मिलने की इच्छा जताई। अभिनेत्री और मंत्री के मिलने का समय आठ नवंबर को सुबह 11 से 12 बजे के बीच तय हुआ। मुलाकत के दौरान ही मंत्री ने विद्या बालन को डिनर के लिए आमंत्रित किया। लेकिन अभिनेत्री ने सीधे मना कर दिया।

रूकवा दी शूटिंग टीम की गाड़ियां…

विद्या बालन की न के बाद ‘शेरनी’ की प्रोडक्शन टीम दूसरे दिन जब शूट करने गई तो उनके सामने बड़ा रोड़ा आ गया। बालाघाट दक्षिण के जिला वन अधिकारी जीके बरकड़े ने यह कहकर टीम की गाड़ियां रोक दीं कि सिर्फ दो गाड़ियां ही अंदर जाएंगी। प्रोडक्शन टीम को इसकी वजह समझने में देर न लगी और उन्होंने ऊपर फोन घुमाया। मामला जब राज्य शासन के स्तर तक पहुंचा तो आनन-फानन में सारी गाड़ियों को अंदर जाने की अनुमति दिलाई गई और शूटिंग शुरू हुई।

डिनर की व्यवस्था जिला प्रशासन ने की थी -वन मंत्री

वन मंत्री विजय शाह का कहना है कि विद्या बालन से मुलाकात की बात एकदम सही थी, लेकिन डिनर की व्यवस्था जिला प्रशासन की ओर से की गई थी। गाड़ियों की रोकने वाली बात में यह बात सामने आई है कि शूटिंग के दौरान दो जनरेटर जाते थे। लेकिन फिल्म यूनिट ने जनरेटर से युक्त कई गाड़ियां जंगल में ले जाने की कोशिश की, जिन्हें डीएफओ ने रुकवाया था। जनरेटर की आवाज से परेशानी हो रही थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

रविवार को व्रत करने से होते हैं ये 5 फायदे, जानिए इसकी विधि

कोलकाता : रविवार को भगवान विष्णु और सूर्य देव का दिन होता है। इस दिन आराधना की जानी चाहिए। हिंदू धर्म में इसे सबसे श्रेष्ठ आगे पढ़ें »

‘जय श्री राम’ का नारा कहीं जानबूझ कर तो नहीं लगाया गया !

आगामी विस चुनाव पर पड़ सकता है खासा असर भाजपा के लिए बना चुनावी हथकंडा कोलकाता : ऐसा पहली बार नहीं है। पहले भी जय श्रीराम सुनकर आगे पढ़ें »

ऊपर