मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान मामले की सुनवाई, आज हो सकता है फैसला

मथुरा: जहां आज एक तरफ लखनऊ में बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में फैसला लिया गया वहीं दूसरी तरफ अदालत में मथुरा के कृष्ण जन्मभूमि-ईदगाह विवाद की सुनवाई होने वाली है। मथुरा की एक अदालत हिंदू समूह की याचिका पर आज सुनवाई करेगी जिसमें मंदिर के पास बनी ईदगाह को हटाने की मांग की गई है। अदालत यह फैसला लेगी कि इस याचिका को आगे सुनवाई के लिए स्वीकार किया जाए या नहीं। 28 सितंबर को जज छाया शर्मा ने याचिका पर सुनवाई के लिए 30 सितंबर की तारीख तय की थी। दो गुटों के बीच तनाव के मद्देनजर सुनवाई से पहले मथुरा में धार्मिक स्थलों की सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है।

वादी पक्ष की आरे से वरिष्ठ अधिवक्ता हरीशंकर जैन और अधिवक्ता विष्णु शंकर जैन ने बताया कि उन्होंने बाहरी व्यक्तियों द्वारा इस मसले पर याचिका दाखिल किए जाने से संबंधित सवाल पर अदालत को भारतीय दण्ड संहिता की धारा 16 एवं 20 का हवाला दिया ओर कहा कि यह हर भारतीय नागरिक का अधिकार है कि वह कहीं भी किसी भी जनपद में अपनी फरियाद कर सकता है। उन्होंने बताया कि याचिका की सुनवाई के लिए अदालत में राम मंदिर से संबंधित मामले में न्यायालय के फैसले के पैरा 116 का हवाला दिया और कहा कि मंदिर निर्माण की संकल्पना अमिट ओर अदालत के अधिकार क्षेत्र से बाहर है।

1968 में हुए समझौते को रद्द करने की मांग
13.37 एकड़ जमीन पर 1968 में श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान और कमेटी ऑफ मैनेजमेंट ट्रस्ट शाही ईदगाह मस्जिद के बीच हुए समझौते और उसके बाद की गई डिक्री को रद्द करने संबंधी याचिका पर निर्णय होगा। यदि अदालत याचिका को स्वीकार कर लेती है तो इस संबंध में सभी विपक्षियों को समन जारी कर अग्रिम न्यायिक प्रक्रिया प्रारंम्भ हो जाएगी।

श्री कृष्ण संस्थान और शाही ईदगाह के बीच का समझौता अवैध
महामना मदन मोहन मालवीय आदि द्वारा ली गई यह संकल्पना मंदिर निर्माण के पश्चात भी कायम है। उन्होंने बुधवार की सुनवाई में श्री कृष्ण जन्मस्थान और कटरा केशवदेव परिसर में भगवान कृष्ण का भव्य मंदिर बनाए जाने से संबंधित इतिहास का सिलसिलेवार ब्यौरा देते हुए कहा कि श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान को शाही ईदगाह प्रबंधन समिति से किसी भी प्रकार का कोई हक ही नहीं था। इसलिए उसके द्वारा किया गया कोई भी समझौता अवैध है। जिसके साथ शाही ईदगाह निर्माण के लिए कब्जाई गई भूमि पर उसका कब्जा अनधिकृत है। उन्होंने कृष्ण सखी के रूप में याचिकाकर्ता रंजना अग्निहोत्री की मांग का समर्थन करते हुए संपूर्ण भूमि का कब्जा श्रीकृष्ण विराजमान को सौंपने का अनुरोध किया है।

15 अक्टूबर को होगा अखाड़े की बैठक
संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मस्थान विवाद पर चर्चा के लिए 15 अक्टूबर को सभी 13 अखाड़ों की एक बैठक बुलाई है। विवाद को लेकर दायर याचिका में परिषद पक्षकार बनेगा या नहीं बैठक में इसी बात पर चर्चा होगी। सोशल मीडिया में भी मथुरा स्थित श्रीकृष्ण जन्मभूमि की ‘मुक्ति’ की मांग तूल पकड़ती दिख रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

हैदराबाद ने राजस्थान को 8 विकेट से हराया, मनीष-शंकर की आकर्षक बल्‍लेबाजी, टॉप-5 में पहुंची हैदराबाद

दुबई : मनीष पांडे की आकर्षक पारी और विजय शंकर के साथ उनकी अटूट शतकीय साझेदारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने गुरुवार को यहां राजस्थान रॉयल्स आगे पढ़ें »

भारतीय महिला दल टी20 चैलेंज के लिये संयुक्त अरब अमीरात पहुंचा

दुबई : भारत की 30 शीर्ष महिला क्रिकेटर टी20 चैलेंज में भाग लेने के लिये गुरूवार को यहां पहुंची जो ‘मिनी महिला आईपीएल’ के नाम आगे पढ़ें »

ऊपर