वडोदरा : सब इंस्पेक्टर ने वसुदेव बनकर बचाई एक माह की बच्ची की जान

Vadodara Sub Inspector rescues one month child's life

वडोदरा : गुजरात के वडोदरा में भारी बारिश की वजह से 24 घंटे में ही 20 इंच पानी बरस गया। इस वजह से शहर की सड़कें तालाब में तब्दील हो गई। पिछले कुछ दिनों से वडोदरा में हो रही मूसलाधार बारिश के कारण यहां बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। इसमें फंसे हुए लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस दौरान एक सब इंस्पेक्टर ने वसुदेव बनकर एक माह की बच्‍ची की जान बचाई है। इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। बारिश के कारण शहर की हालत इतनी खराब हो गई है कि राष्ट्रीय आपदा राहत बचाव दल (एनडीआरएफ) की टीमों को राहत और बचावकार्य में जुटना पड़ा है।

एक माह की बच्ची की रक्षा

इसी बीच वडोदरा से एक ऐसी तस्वीर आई है जिसमें बारिश में फंसी एक माह की बच्ची के लिए एक पुलिस सब-इंस्पेक्टर वसुदेव की तरह आया और उसकी जान बचा ली। बताया जा रहा है कि यह तस्वीर गुजरात पुलिस के सब-इंस्पेक्टर जीके चावड़ा की है। बारिश और कंधे तक भरे पानी में चावड़ा ने मासूम को टोकरी में रखा और अपने सिर पर इस टोकरी को रखकर सुरक्षित स्थान की ओर निकले।

कृष्ण और वसुदेव की कहानी

विश्वामित्री रेलवे स्टेशन के पास देवपुरा सेटलमेंट में लगभग 70 परिवार बाढ़ में फंसे थे। रावपुरा पुलिस स्टेशन की टीम इन लोगों की मदद को पहुंची थी। इनमें से एक परिवार इस एक महीने की बच्ची का भी था। जलस्तर को देखते हुए पुलिसकर्मियों ने दो पेड़ों के बीच रस्सी बांधी और लोगों को उसके सहारे बाहर निकाला। हालांकि, बच्ची के माता-पिता बहुत डरे हुए थे और वह यह जोखिम लेना नहीं चाहते थे। इस पर चावड़ा ने बच्ची को कंबल में लपेटकर टोकरी में रखा और चल दिए। इस घटना ने लोगों को भगवान कृष्ण और वसुदेव की कहानी याद दिला दी। वसुदेव ने भी अपने नवजात पुत्र कृष्ण को इसी तरह यमुना के प्रवाह से निकाला था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

syria

तुर्की के हमले में सीरिया में 26 नागरिकों की मौत, अमेरिका भेज सकता है सेना

बेरूत : सीरिया में कुर्दों के खिलाफ तुर्की के हमले में रविवार को करीब 26 नागरिकों की मौत हो गई। एक युद्ध निगरानी संस्था ने आगे पढ़ें »

Share profit

शेयर बाजार में आईआरसीटीसी की बंपर लिस्टिंग, निवेशक हुए मालामाल

नई दिल्ली : इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) ने बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) पर 101.25 प्रतिशत और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) पर 95.62 आगे पढ़ें »

ऊपर