प्रधानमंत्री से मिले मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी

नई दिल्ली : मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार पुष्कर सिंह धामी नई दिल्ली के दौरे पर हैं। उन्होंने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शिष्टाचार भेंट की। इसके बाद वह राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलेंगे। उनका केंद्रीय मंत्रियों से भी मुलाकात का कार्यक्रम है।
राज्यों से बात करने के बाद ही कांवड़ यात्रा पर लिया जाएगा फैसला: मुख्यमंत्री
वहीं इससे पहले मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कांवड़ यात्रा पर पूछे गए सवाल पर कहा कि कांवड़ यात्रा केवल उत्तराखंड नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश, हरियाणा, मध्य प्रदेश और दिल्ली से भी जुड़ी है। इन राज्यों से बात करने के बाद ही कोई निर्णय लिया जाएगा। मुख्यमंत्री शुक्रवार शाम सात बजे नई दिल्ली के लिए रवाना हो गए थे। प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति से भेंट करने के बाद तीन बजे उनकी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और शाम पांच बजे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भेंट होगी। मुख्यमंत्री शाम 5.20 बजे भारी उद्योग मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय, शाम छह बजे नवीन एवं नवीनीकरणीय ऊर्जा मंत्री राजकुमार सिंह से भेंट करेंगे। उनका अन्य केंद्रीय मंत्रियों से भी मुलाकात का कार्यक्रम है। मुख्यमंत्री धामी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. जेपी नड्डा से भी शिष्टाचार भेंट करेंगे। मुख्यमंत्री के साथ अधिकारियों की एक टीम भी गई है। मुख्य सचिव डॉ. सुखबीर सिंह संधू के अलावा कुछ अन्य अधिकारी उनके साथ हैं। भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री कुछ केंद्रीय मंत्रियों से मुलाकात कर सकते हैं। मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री मंत्रालयों से संबंधित मसलों की पैरवी करेंगे।
इन मुद्दों पर चर्चा
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान आशीर्वाद लेने के साथ उन्हें राज्य में कोविड महामारी की रोकथाम, तीसरी लहर से निपटने की तैयारी, टीकाकरण अभियान के बारे में जानकारी दी। साथ ही राज्य में चल रही केंद्रीय योजनाओं मसलन चारधाम ऑलवेदर रोड, ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल लाइन परियोजना और केदारनाथ पुनर्निर्माण योजना के बारे में भी जानकारी दी।
मुख्यमंत्री ने लिया राज्यपाल कोश्यारी आशीर्वाद
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नई दिल्ली पहुंचकर वहां महाराष्ट्र सदन में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से शिष्टाचार भेंट की और उनसे आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर कोश्यारी ने धामी को शुभकामनाएं दीं। धामी को कोश्यारी का वफादार माना जात है। सियासी जानकार कहते हैं कि धामी को सीएम की कुर्सी दिलाने में कोश्यारी का अहम योगदान रहा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ब्रेकिंगः बाबुल नहीं छोड़ेंगे सांसद पद

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सोमवार को नयी दिल्ली में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ बैठक के बाद संवाददाताओं को संबोधित करते हुए आसनसोल आगे पढ़ें »

ऊपर