यूपी: पटाखा फैक्ट्री में भीषण विस्‍फोट से 6 लोगो की मौत, बिखरे मिले मानव अंग

explosion firecracker factory

एटा : उत्तर प्रदेश के एटा इलाके में पटाखा फैक्ट्री में भीषण विस्‍फोट से 6 लोगो की मौत की खबर सामने आई है। विस्फोट के कारण कई लोग मलबे में फंसे हुए हैं। यह फैक्ट्री एटा जिले के थाना मिरहची क्षेत्र में स्थित है। यहां पर काम करने वाले लोगों के लिए यह घटना बेहद घातक रहा। घटना की सूचना मिलते ही राहत-बचाव कर्मी घटनास्‍थल पर पहुंचकर फंसे हुए लोगो को निकालने में जुट गए। घटना में घायल 11 लोगो को फौरन अस्पताल भेज दिया गया है। हालांकि अभी तक घटना के पीछे का कारण स्पष्ट रुप से सामने नहीं आया है और पुलिस की टीम घटनास्‍थल पर इसकी जांच-पड़ताल में जुड़ी है।

दो मकान गिरे

मालूम हो कि इलाके के एक घर में आतिशबाजी बनाने का काम चल रहा था और फैक्ट्री का लाइसेंस मुन्नी देवी के नाम पे था। घटना के वक्त फैक्ट्री में काफी लोग उपस्थित थे। ऐसा बताया जा रहा है ‌कि यह विस्फोट इतनी तेज थी कि आसपास की मकानें गिर गई और निकटवर्ती क्षत्रों को भी नुकसान पहुंचा है। मृतकों में सोनी पत्नी मुनीम,शीतल पुत्री चन्द्रपाल और रजनी पुत्री टाइगर के नाम शामिल हैं। खबरों के मुताबिक मासूम रजनी का शव काफी दूर जा गिरा। कुछ शव बेहद बुरी तरह से बिखरे पाए गए। वहीं दूसरी ओर नरेश पुत्र सुखराम जाटव का पूरा परिवार मलबे में दबा हुआ पाया गया।

बिखरे मिले मानव अंग

जानकारी के मुताबिक पहला धमाका 11 बजे मुन्नी के मकान में हुआ जिसकी आवाज बहुत दूर तक सुनाई दी थी। इसके बाद लगातार 15-20 घमाके हुए जिससे पूरे इलाके में दहशत फैल गयी है। धमाके में 4-5 मकान भी क्षतिग्रस्त हुए है। कहीं किसी का कटा हुआ पैर मिला तो कहीं किसी का हाथ। हर तरफ मांस के टुकड़े पाए गए हैं। खबरों की माने तो घटना के समय मकान में 15-20 लोग मौजूद थे जिसमें बच्चे व महिलाएं भी थें। पटाखे बनाने का काम ठेकेदारी पर किया जा रहा था इसलिए इस बात की आशंका जताई जा रही है कि इसमें श्रमिक भी शामिल थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

घरेलू क्रिकेट में पहली बार सीएबी ने खिलाड़ियों की आंखों की जांच को किया ‘अनिवार्य’

कोलकाता : बंगाल क्रिकेट संघ (कैब) ने कोविड-19 से जुड़े प्रतिबंधों को हटने के बाद फिर से शिविर लगाने पर अंडर-23 और सीनियर टीम के आगे पढ़ें »

अब वकील भी नहीं नजर आएंगे काले कोट में

कोलकाता : हाईकोर्ट में सामान्य सुनवाई शुरू होने पर अब एडवोकेट ब्लैक कोट और गाउन में नजर नहीं आएंगे। गौरतलब है कि बार काउंसिल ऑफ आगे पढ़ें »

ऊपर