ओमिक्रॉन का ये लक्षण पहले आता है नजर, वैक्सीनेटेड भी रहें अलर्ट

नई दिल्लीः ओमिक्रॉन की वजह से कोरोना के मामलों में बड़ा उछाल सामने आ रहा है। हालांकि, कम गंभीर होने के अलावा ओमिक्रॉन और डेल्टा के लक्षणों में भी काफी अंतर है। यही वजह है कि एक्सपर्ट्स बार-बार लोगों से ओमिक्रॉन के लक्षणों की सही पहचान करने को कह रहे हैं ताकि इसे फैलने से रोका जा सके। अमेरिका के येल स्कूल ऑफ मेडिसिन में सहायक प्रोफेसर जॉर्ज मोरेनो ने इनसाइडर को ओमिक्रॉन से जुड़े कई लक्षणों के बारे में बताया है।

ओमिक्रॉन के खास लक्षण
  • प्रोफेसर जॉर्ज मोरेनो ने बताया, ‘दिसंबर के अंत तक मैं हर दिन कोविड-19 के पांच मरीज देख रहा था लेकिन पिछले हफ्ते ऐसा लगा जैसे कि कोरोना का विस्फोट हो गया हो। इसके पीछे ओमिक्रॉन वैरिएंट जिम्मेदार है।
  • केेविड-19 के अन्य लक्षण महसूस होने से पहले ज्यादातर मरीजों ने रूखा और गले में खराश महसूस किया जिसकी वजह से उन्हें निगलने में तेज दर्द हो रहा था। ये एक प्रमुख लक्षण है।
  • नॉर्वे, दक्षिण अफ्रीका और यूके के डॉक्टरों ने भी इसी तरह गले में खराश या चुभन को ओमिक्रॉन के विशिष्ट लक्षण के रूप में पहचाना है।
  • एक न्यूज ब्रीफिंग में, दक्षिण अफ्रीका के डिस्कवरी हेल्थ के सीईओ, रेयान नोच ने कहा था कि ओमिक्रॉन के मरीज आमतौर पर सबसे पहले गले में खराश की शिकायत करते हैं, उसके बाद नाक में बंद होना, सूखी खांसी और शरीर में दर्द होता है। हालांकि, प्रोफेसर मोरेनो का कहना है कि गले में खराश अक्सर साइनस कंजेशन और सिरदर्द के साथ हाथ आता है।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

कमरे में आशिक के साथ इश्क लड़ा रही थी पत्नी, अचानक पहुंच गया पति फिर जो हुआ…

गोपालगंज : आशिक के साथ कमरे में पत्नी इश्क लड़ा रही थी। इतने में परदेस से कमा कर उसका पति घर पहुंचा और सब कुछ आगे पढ़ें »

माल नदी से 450 लोगों को बचाया गया, भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने किया इलाके का दौरा

जलपाईगुड़ी : जलपाईगुड़ी जिले में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान माल नदी में अचानक आई बाढ़ में आठ लोगों की मौत व कई लोगों के आगे पढ़ें »

ऊपर