छात्रा ने यौन उत्पीड़न के चलते आत्महत्या की, आरोपों से तंग आकर टीचर ने भी जान दे दी

चेन्नईः बीते हफ्ते तमिलनाडु के करूर जिले की एक छात्रा ने यौन उत्पीड़न की वजह से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। अब उसी लड़की के एक टीचर ने केवल इसलिए आत्महत्या कर ली, क्योंकि स्कूल के कुछ छात्र उन्हें शक की नजर से देखते थे, जबकि उनका छात्रा की आत्महत्या से कोई लेना-देना नहीं था। एक रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने घटना की जानकरी देते हुए बताया कि 42 साल के सरवनन करूर के एक स्कूल में पढ़ाते थे। बुधवार 24 नवंबर को उन्होंने स्कूल से जल्दी छुट्टी ले ली। इसके बाद वे तिरुचिरापल्ली जिले में स्थित अपने ससुर के घर गए और शाम को कमरा बंद कर फांसी लगा ली। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक पहले जानकारी मिली कि सरवनन ने घर में एक विवाद के चलते यह कदम उठाया है, लेकिन शव के पास से एक सुसाइड नोट मिला जिससे ये साफ़ हुआ कि यह मामला छात्रा की आत्महत्या से जुड़ा है।

तिरुचिरापल्ली पुलिस के मुताबिक सरवनन ने सुसाइड नोट में लिखा है,

“जब से बारहवीं कक्षा की छात्रा ने आत्महत्या की है, तब से स्कूल के छात्र मुझे संदेह की नजरों से देखते हैं, मैंने कोई गलती नहीं की है, लेकिन जब छात्र ऐसे देखते हैं तो मुझे बहुत शर्म आती है। मुझे नहीं पता कि वे मेरे बारे में इस तरह क्यों बात कर रहे हैं…मैं सभी को बहुत मिस करूंगा।”

पूरा मामला क्या है?

सूत्रों के मुताबिक 19 नवंबर को तमिलनाडु के करूर में 12वीं कक्षा की एक छात्रा ने अपने घर पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। लड़की की उम्र 17 साल थी। पुलिस को छात्रा के पास से एक सुसाइड नोट भी मिला था, जिसमें उसने लिखा था,

“मैं करूर जिले में यौन उत्पीड़न के कारण मरने वाली आखिरी लड़की होनी चाहिए। मुझे यह कहने से डर लग रहा है कि मेरे इस फैसले का कारण कौन है। मैं लंबे समय तक जीना चाहती थी और दूसरों की मदद करना चाहती थी, लेकिन अब मुझे इतनी जल्दी इस दुनिया को छोड़ना होगा।”

पुलिस ने जब मामले की जांच की तो पता लगा कि छात्रा ने आत्महत्या का कदम स्कूल से घर आने के तुरंत बाद उठाया था। इस वजह से पुलिस ने उसके स्कूल के छात्रों, टीचरों और कर्मचारियों से पूछताछ की। इस दौरान उसके टीचर सरवनन से भी पूछताछ की गई। हालांकि पुलिस को किसी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला। करूर पुलिस ने कहा भी है कि इस मामले में उन्हें सरवनन पर कोई संदेह नहीं था और न उनके खिलाफ कोई सबूत मिला। यानी साफ है कि छात्रों की शक की निगाहों से वे इतना ज्यादा परेशान हो गए थे कि उन्होंने जीवन खत्म करने का बड़ा कदम उठा लिया। सरवनन अपने पीछे पत्नी और दो बच्चे छोड़ गए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

मां की डांट सुनकर बेहला में युवती ने की आत्महत्या

कोलकाता : मां की डांट सुनकर बेहला थानांतर्गत पर्णश्री इलाके में सुदेशना भौमिक नामक एक युवती ने आत्महत्या कर ली। शुक्रवार को उसका शव उसके आगे पढ़ें »

ऊपर