कोरोना का नया वैरिएंट इसलिये है ज्यादा खतरनाक… 30 बार बदल चुका है रूप!

नई दिल्लीः कोरोना वायरस के नए वैरिएंट से एक बार फिर पूरी दुनिया चिंता में आ गई है। जब कई देशों में कोविड के मामले अब कम होने शुरू हो गए थे, तब फिर एक नए वैरिएंट ने हर किसी को डरा दिया है। ये नया वैरिएंट साउथ अफ्रीका में पाया गया है। कहा जा रहा है कि ये काफी तेजी से फैलता है और इसका म्यूटेशन 30 से अधिक बार हो चुका है। इस वैरिएंट को B.1.1.529 नाम दिया गया है। इस वैरिएंट को लेकर पूरी दुनिया सतर्क है। भारत सरकार ने भी सभी राज्यों को मुस्तैद रहने के लिए कहा है। गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड के नए वैरिएंट से प्रभावित मुल्कों से आ रहे लोगों की स्क्रीनिंग के निर्देश जारी किए। भारत आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की कोरोना जांच कराई जाएगी। हाल ही में वीजा पाबंदी में ढील और इंटरनैशल ट्रैवल में छूट दी गई थी, ऐसे में इसको लेकर खास सतर्कता बरती जा रही है। रैपिड टेस्टिंग पर भी पूरा जोर दिया जा रहा है।
लगातार म्यूटेट हो रहे इस वैरिएंट ने डब्लयूएचओ के साथ वैज्ञानिकों की भी टेंशन बढ़ा दी है। 30 से अधिक बार म्यूटेशन यानी रूप बदलना सबसे खतरे की बात है। दूसरी लहर में डेल्टा और डेल्टा प्लस वैरिएंट इसी तरह म्यूटेट होकर जानलेवा साबित हुआ था। सबसे चिंता की बात यह है कि मौजूदा वैक्सीन इस वैरिएंट के खिलाफ कारगर है या नहीं, इसकी स्टडी की जा रही है। इसमें वक्त लग सकता है। ऐसे में यह आशंका जताई जा रही है कि तब तक यह वैरिएंट कहर ना बरपाना शुरू कर दे।
क्या है केंद्र सरकार की तैयारी?
बताया गया है कि जो भी लोग इन देशों से भारत आएंगे, उन्हें एक सख्त स्क्रीनिंग से गुजरना पड़ेगा। ये सब इसलिए होगा क्योंकि अफ्रीका के उन देशों को ‘एट रिस्क’ वाली कैटेगरी में रखे जाने की तैयारी है। सरकार की इस पूरी सतर्कता के पीछे वजह भी वाजिब है। दूसरी लहर में कोरोना वायरस ने भारत में जमकर कहर मचाया था और कोरोना डेल्टा वैरिएंट को इसका सबसे बड़ा जिम्मेदार माना गया। यूरोप और बाकी देशों में कहर बरपा रहे डेल्टा वैरिएंट के डर से कई भारतीय अपने मुल्क लौट आए थे। एयरपोर्ट पर कहीं ना कहीं टेस्टिंग में चूक हुई थी और फिर धीरे-धीरे इस वैरिएंट ने गदर काटा था। ऐसे में इस बार केंद्र सरकार विशेष सतर्कता बरत रही है।
इस बीच डब्लयूएचओ की टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ने अहम बैठक बुलाई है। उस बैठक में इस नए वैरिएंट को लेकर मंथन होने वाला है। डब्लयूएचओ का कहना है कि इस वैरिएंट पर अभी और रिसर्च करने की जरूरत है। सबसे जरूरी है कि हम अधिक से अधिक लोगों को कोरोना वैक्सीन लगवाएं, ताकि इससे मुकाबला किया जा सके। इसके अलावा ये भी बताया गया है कि कोरोना के इस वैरिएंट को भी एक ग्रीक नाम दिया जाएगा। जैसे डेल्टा, एल्फा नाम रखे गए हैं, साउथ अफ्रीका वैरिएंट को भी एक नाम दिया जाएगा। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस वैरिएंट में मल्टी म्यूटेशंस की ताकत है, इसलिए यह चिंता की बात है। अब इसकी भी जांच हो रही है कि कोविड वैक्सीन इस वैरिएंट के खिलाफ कितना कारगर है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

ठग ‘सुंदरी’ के प्रेम के चक्कर में सेक्सटोर्शन के शिकार हो रहे हैं लोग

महानगर में लगातार बढ़ रहा है सेक्शटोर्शन के मामले कोलकाता पुलिस के जागरुकता अभियान के बावजूद लोग हो रहे हैं शिकार सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : अगर आपके फोन आगे पढ़ें »

ऊपर