संसद में स्मृति का रौद्र रूपः लाल आंख, सख्त आवाज…

नई दिल्ली: संसद में पिछले करीब दो सप्ताह से सदन का नजारा अलग था। विपक्ष के महंगाई और जीएसटी के मुद्दे पर सरकार जहां बैकफुट थी वहीं, आज दोनों सदनों में नजारा एकदम बदल गया था। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी  का राष्ट्रपति को लेकर दिए बयान को बीजेपी ने लपक लिया और लोकसभा और राज्यसभा में कांग्रेस पार्टी को जमकर घेरा। दोनों सदन में अधीर के बयान पर जमकर हंगामा हुआ। आमतौर पर सौम्यता से बात करने वाली बीजेपी नेता स्मृति इरानी  का आज अलग ही रूप दिखा। इरानी का चेहरा आज तमतमा रहा था। उन्होंने सीधे कांग्रेस चीफ सोनिया गांधी पर हमला बोला। गुस्से से सुर्ख नजर आ रहीं इरानी ने अपने भाषण में लगातार कांग्रेस पर शब्दों के तीखे बाण चलाए। इरानी ने आज लोकसभा में अधीर रंजन के बयान पर कांग्रेस को जमकर घेरा और अपने एक ही बयान से सारा हिसाब बराबर कर दिया। इरानी ने तो सीधे-सीधे सोनिया गांधी पर निशाना साधा और उन्हें देश से माफी मांगने की मांग की। गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही कांग्रेस पार्टी इरानी के 18 साल की बेटी जोइश इरानी पर गोवा में अवैध रूप से बार चलाने का आरोप लगाया था। इसके बाद कांग्रेस और इरानी में जमकर बयानबाजी हुई थी।
जमकर वाकयुद्ध चल रहा था
पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस और इरानी के बीच जमकर वाकयुद्ध चल रहा था। आज इरानी ने महिला राष्ट्रपति के अपमान के मुद्दे को उठाया। अधीर रंजन ने बुधवार को देश की पहली आदिवासी राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्र की पत्नी बता दिया था। बीजेपी ने इस बयान को लपकते हुए अधीर रंजन समेत पूरे कांग्रेस को घेर लिया। इरानी तो लोकसभा में आज बेहद सख्त नजर आ रही थीं। गुस्साए हुए तेवर में के जरिए इरानी ने अधीर रंजन का नाम लेकर पूरी कांग्रेस पार्टी को घेर लिया।
एक-एक वार का बदला लिया
लोकसभा में आज बेहद सख्त तेवर में नजर आ रहीं इरानी ने आज एक-एक वार का बदला लिया। उन्होंने देश के राष्ट्रपति के अपमान के लिए सोनिया गांधी को जिम्मेदार ठहरा दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी को ये हजम नहीं हो पा रहा है कि कोई गरीब आदिवासी देश के सर्वोच्च पद पर पहुंच गई है। इरानी ने कांग्रेस को महिला विरोधी और आदिवासी विरोधी बताते हुए कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी लगातार मुर्मू का अपमान कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

मोदीखाना से लेकर बीरभूम के ‘बादशाह’ तक केष्टो का सफर

रातोंरात नहीं बदली अनुव्रत की किस्मत, करते थे मछली व्यवसाय सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : अनुव्रत मंडल। बीरभूम में नाम ही काफी रहा है। जिले में जिसकी तुती आगे पढ़ें »

ऊपर