सुप्रीम कोर्ट ने सभी राज्यों को कोरोना अस्पतालों में अग्नि सुरक्षा जांच करने का दिया निर्देश

नयी दिल्ली : शीर्ष न्यायालय ने सभी राज्यों को शुक्रवार को निर्देश दिया कि वे कोविड-19 समर्पित अस्पतालों में आग से सुरक्षा की जांच करें ताकि देश में अस्पतालों में आग लगने की घटनाओं को रोका जा सके। शीर्ष न्यायालय ने कोविड-19 समर्पित अस्पतालों को चार सप्ताह के अंदर अग्नि अनापत्ति प्रमाण पत्र का नवीकरण कराने का निर्देश देते हुए कहा कि ऐसा ना करने पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। न्यायमूर्ति अशोक भूषण के नेतृत्व वाली एक पीठ ने कहा कि जिन अस्पतालों के अग्नि अनापत्ति प्रमाण पत्र की समय सीमा खत्म हो चुकी है, उन्हें चार सप्ताह के अंदर इसे हासिल करना होगा। न्यायमूर्ति आर एस रेड्डी और न्यायमूर्ति एम आर शाह भी इस पीठ में शामिल थे।
अस्पतालों में अग्नि सुरक्षा व्यवस्‍था नहीं होने पर राज्य सरकार करेगी कार्रवाई
पीठ ने कहा कि राजनीतिक रैलियों और कोविड-19 से जुड़े निर्देशों के पालन के मुद्दे को निर्वाचन आयोग देखेगा। मालूम हो शीर्ष न्यायालय ने गुजरात के राजकोट के एक कोविड-19 अस्पताल में आग लगने की घटना के बाद संज्ञान लिया था, जिसमें कई मरीजों की मौत हो गई थी। न्यायालय ने कहा कि जिन अस्पतालों ने अब तक अग्नि अनापत्ति प्रमाण पत्र हासिल नहीं किया है, वे जल्द से जल्द इसे हासिल करें। राजकोट और अहमदाबाद के अस्पताल में आग लगने की जो घटना हुई, वह कहीं और न हो, इसे सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक राज्य इस संबंध में नोडल अधिकारी नियुक्त करने के लिए बाध्य है। शीर्ष न्यायालय ने सभी राज्यों को निर्देश दिया है कि वे चार सप्ताह के भीतर अनुपालन का हलफनामा दाखिल करें। पीठ ने कहा कि अगर कोविड-19 अस्पतालों में आग से संबंधित सुरक्षा नहीं है तो राज्य सरकार इस पर कार्रवाई करेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

तृणमूल का इंजन हैं ममता, सबको साथ लेकर चलती हैं : पार्थ

कहा : कौन किस स्टेशन पर उतरेगा उससे पार्टी को फर्क नहीं पड़ता तृणमूल की संपदा कार्यकर्ता है जो हमारे साथ है सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पार्टी से आगे पढ़ें »

इस बार खास, सारे पोलिंग बूथ होंगे अंडरग्राउंड

80 साल से अधिक उम्र व दिव्यांग मतदाताओं को होगी सहूलियत सी-विजिल एप पर कर सकेंगे किसी प्रकार की शिकायत सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर आगे पढ़ें »

ऊपर