आज शाम अंतरिक्ष में दिखेगा अलौकिक नजारा, तीन ग्रह बनाएंगे कंजंक्शन

नई दिल्ली : ब्रह्मांड में शनिवार और रविवार, (9 और 10 जनवरी) को ऐसा अद्भुत नजारा दिखेगा जो आज से पहले आपने कभी नहीं देखा होगा।  बीते 21 दिसंबर को पूरे 400 साल बाद बृहस्पति और शनि सबसे करीब आए थे। इस खगोलीय घटना के बाद 9 और 10 जनवरी को सूर्यास्त के बाद रात में आकाश में बृहस्पति (सबसे चमकीला), बुध और शनि तीनों ग्रह मिलकर एक छोटा त्रिकोण बनाएंगे। इस शानदार नजारे को आप अपनी खुली आंखों से देख सकते हैं। तीनों ग्रहों का यह अद्भुत नजारा दक्षिण-पश्चिमी आकाश में दिखेगा इसलिए आपको एक सटीक एंगल से ही ये दिखाई देगा। किसी ऊंची इमारत की तीसरी या चौथी मंजिल से इसे देखा जा सकेगा। इसके लिए आपको और किसी खास तरह की तैयारी की जरूरत नहीं होगी।

सूर्यास्त के बाद लगभग 30 मिनट तक यह दृश्य आसमान में दिखाई देगा। आसमान में तीनों ग्रह एक रेखा पर बाहर निकल जाएंगे और सूर्यास्त के 90 मिनट बाद पूरी तरह से डूब जाएंगे। इसलिए अगर आप यह अद्भुत नजारा देखना चाहते हैं तो सूर्यास्त के समय दक्षिण-पश्चिम दिशा में आसमान की तरफ देखें। इसे आसानी से देखने और समझने के लिए आप स्टार ट्रैकर एप्लिकेशन की सहायता भी ले सकते हैं।

इस शनिवार को सूर्यास्त के बाद सबसे पहले, बृहस्पति दिखाई देगा। फिर, इसके नीचे, बुध और अंत में, शनि बृहस्पति की तुलना में 10 गुना धुंधला दिखाई देगा। दूरबीन, विशेष रूप से शनि के लिए, बहुत उपयोगी होंगे। लेकिन यदि आप जहां है वहां आसमान पूरी तरफ साफ है तो आपको किसी यंत्र की जरूरत नहीं होगी। 10 जनवरी को त्रिभुज के रूप में “ट्रिपल कंजंक्शन” को आसानी से देखा जा सकता है।

रविवार को सूर्यास्त के बाद छोटे ग्रह, बुध, बृहस्पति और शनि लगभग समवर्ती त्रिकोण के रूप में दिखाई देंगे, जिसमें बुध सूर्य से थोड़ा दूर चला जाएगा। इसलिए कैलेंडर में 10 जनवरी को चिह्नित करें और अपने अलार्म सेट करें, क्योंकि सूर्यास्त के ठीक आसमान में आपको अद्भुत नजारा दिखेगा।


 

शेयर करें

मुख्य समाचार

सेहत के लिए अच्छा है ऑर्गेनिक फूड

सेहत के प्रति जागरूक लोग अब आर्गेनिक फूड की ओर अपना झुकाव बढ़ा रहे हैं। आर्गेनिक फूड वह फूड है जो केमिकल फ्री होता है। आगे पढ़ें »

रात को संगीत सुनने की डालें आदत, दूर होगा अनिद्रा और तनाव

कोलकाता : हर दौर के साथ संगीत में कुछ बदलाव बेशक नजर आते हैं लेकिन उसके प्रति दीवानगी में कोई कमी नहीं होती है। वक्त आगे पढ़ें »

ऊपर