काफेर का सनराइज व्यू प्वाइंट पर्यटकों का मुख्य आकर्षण का केंद्र बना 

मालबाजार : घनश्याम कानू – इस समय पर्यटकों के लिये घूमने फिरने व ठहरने के लिये काफेर एक आदर्श जगह बन गयी है । कालिम्पोंग जिले के अधीन लाभा से सटे प्राकृतिक के छांव में बसा काफेर दिन प्रतिदिन एक उत्कृष्ट पर्यटनस्थल में बनकर उभर रही है । दुर्गा पूजा के बाद से देश विदेश से बड़ी तादाद में सैलानी इस पर्यटक स्थान का मजा उठा रहें है । माल प्रखंड के राष्ट्रीय राजमार्ग 31 अन्तर्गत बागराकोट मीना मोड़ से करीब 45 किलोमीटर की दूरी पर पहाड़ की ऊंचाई पर काफेर स्थित है तो वही मालबाजार शहर से सटे डामडिम – गोरुबथान के रास्ते होकर भी काफेर जा सकतें है ।

 

काफेर में कई होम स्टे है हालाकि अभी अधिकांश होम स्टे पर्यटकों से भरी हुयी है , रहने खाने के लिये मात्र 1200 रुपये में आसानी से रूम मिल जायेगी । सिर्फ़ इतना ही नही चाइनीज इन्डियन स्वादिष्ट व्यंजनों का आनन्द में भी उठा सकतें हैं ।एक होम स्टे का मालिक भीम प्रसाद लामा ने बताया कि काफेर से आप पहाड़ी इलाके में बसे कई पर्यटन स्थल का आनन्द ले सकतें है ।

काफेर का मुख्य आकर्षण का केंद्र सनराइज व्यू प्वाइंट और कंचनजंघा है , यहां से सुबह के समय सूर्योदय साफ साफ देख सकतें हैं । इसके अलावा आप काफेर से लाभा , लोलेगांव, चारकोल, नकडारा सहित विभिन्न पर्यटन स्थलों का यात्रा भी कर सकते हैं । कोरोना संक्रमण का मामला कम होतें ही दुर्गा पूजा के बाद से काफेर इलाके में पर्यटकों का आना-जाना लगा हुआ है ।

कलकत्ता से घूमने आये पर्यटक शुभेंदु हाजरा शंपा हाजरा , ने बताया की हमने कई पहाड़ी जगहों पर घुमा लेकिन काफेर अद्भुत अलौकिक मनोरम जगह में से एक है । यह से नीचे देखने पर कई नदियों का संगम के अलावा घने जंगल दिखाई देगा । रास्ते के दोनों किनारे झरना है और पूरा इलाके कोहरे से ढका रहता है , यह प्राकृतिक सौंदर्य किसी का मन को आसानी से मोह सकती है ।

रात में ठंड ज्यादा और दिन में ठंड के साथ हल्की गर्मी का अनुभूति होती है , विगत पांच दिनों से यहां डेरा जमाये हुये है इतना दिन कैसे बीत गया कुछ पता ही नही चला । डुआर्स से आये विप्लव घोष ने सन्मार्ग को बताया की इस जगह में अगर कोई एक बार आ गया तो वह बार बार आयेगा ।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

लगातार 7 सोमवार कर लें ये उपाय, दूर हो जाएंगी सारी दिक्कतें

कोलकाताः लगातार 7 सोमवार को बबूल के पेड़ की जड़ में दूध चढ़ाने से शिव जी की कृपा प्राप्त होती है। इससे वैवाहिक जीवन में आगे पढ़ें »

ऊपर