बंगाल- हिमाचल के नतीजों से भाजपा को झटका, दो ‘खिलाड़ियों’ ने बचा ली लाज!

नई दिल्लीःअगले साल की शुरुआत में उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इससे पहले देश के 13 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली में लोकसभा की तीन और विधानसभा की 29 सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे केंद्र की सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के लिए चिंता का सबब बन सकते हैं। हिमाचल प्रदेश, पश्चिम बंगाल और राजस्थान में जहां भाजपा का सूपड़ा साफ हो गया वहीं, असम और मध्य प्रदेश में अपने प्रमुख क्षत्रपों मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपने-अपने राज्यों में हुए उपचुनावों में पार्टी को प्रभावी जीत दिलाई। हालांकि कर्नाटक में इन दोनों के समकक्ष बसवराज बोम्मई के लिए परिणाम मिश्रित रहे।

कुछ सदस्यों की मौत और कुछ के इस्तीफे से खाली हुई इन सभी सीटों पर 30 अक्टूबर को मतदान हुआ था। जिन सीटों पर उपचुनाव हुआ है, उनमें 9 सीटों पर कांग्रेस और आधा दर्जन सीटों पर भाजपा का कब्जा था। अन्य सीटें तृणमूल कांग्रेस, जनता दल (यूनाइटेड), इंडियन नेशनल लोकदल सहित कुछ अन्य क्षेत्रीय दलों के कब्जे में थीं।

तेल की कीमतें और महंगाई जैसे मुद्दे हावी रहे
यह उपचुनाव ऐसे समय हुए हैं जब पेट्रोल-डीजल की कीमतें नित नए रिकार्ड बना रही हैं और महंगाई आसमान छू रही है। इनके अलावा किसानों के आंदोलन, कोरोना महामारी के दुष्प्रभावों और देशभर में जारी कोविड-19 रोधी टीकाकरण सहित कई अन्य क्षेत्रीय और स्थानीय मुद्दे भी इन चुनावों में हावी रहे।

 

ममता के आगे भाजपा की एक न चली
पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा को शिकस्त देकर लगातार तीसरी बार राज्य की सत्ता पर काबिज हुई तृणमूल कांग्रेस और उसकी मुखिया ममता बनर्जी के सामने पश्चिम बंगाल में भाजपा की एक नहीं चल रही है। राज्य में चार सीटों पर हुए उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस को शानदार जीत हासिल हुई। वह भाजपा से दो सीटें छीनने में भी सफल रही, जिस पर पिछले विधानसभा चुनाव में उसे जीत हासिल हुई थी। तृणमूल कांग्रेस को इन उपचुनावों में 75 प्रतिशत से अधिक मत हासिल हुए।

हिमाचल से भाजपा को बड़ा झटका
हिमाचल प्रदेश में भाजपा को सबसे तगड़ा झटका लगा है, जहां कांग्रेस ने तीनों विधानसभा सीटों फतेहपुर, अर्की और जुबल-कोटखाई और मंडी लोकसभा सीट पर जीत हासिल की। कांग्रेस ने अपनी फतेहपुर और अर्की सीटें बरकरार रखी जबकि जुबल-कोटखाई सीट भाजपा से छीनने में कामयाब हुई।

मंडी लोकसभा सीट से पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत वीरभद्र सिंह की पत्नी और कांग्रेस प्रत्याशी प्रतिभा सिंह ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी और करगिल युद्ध के अनुभवी सैनिक भाजपा प्रत्याशी कौशल ठाकुर को पराजित किया। मंडी लोकसभा सीट से भाजपा के राम स्वरूप शर्मा ने 2019 लोकसभा चुनाव में 4,05,000 वोटों के अंतर से जीत हासिल की थी।कांग्रेस ने सेमीफाइनल जीत लिया?हिमाचल कांग्रेस के अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौड़ ने तो भाजपा की हार के बाद नैतिक आधार पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से इस्तीफा मांग लिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने ‘सेमीफाइनल’ जीत लिया है और अगले साल दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनावों में भी जीत दर्ज करेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बहुमंजिली इमारत पर पाइप के जरिए चढ़ कर करता था चोरी

सोनारपुर से पकड़ा गया अभियुक्त सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महानगर की बहुमंज‌िली इमारत में पाइप के जरिए चढ़ कर फ्लैट से कीमती मोबाइल फोन और लैपटॉप चुराने आगे पढ़ें »

जाने आज के दिन का इतिहास

अद्भुत! साधु ने 48 सालों से हवा में उठाया है एक हाथ, वजह चौंकानेवाली

व‍िक्‍की कौशल को महंगी पड़ने वाली है जूते-चुराई की रस्‍म!

ब्रेकिंग: चण्डीतल्ला में एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या करने वाले आरोपी का शव स्टेशन से बरामद

कुत्ते को जिंदा जलानेवाले आरोपी पर 50 हजार का इनाम

भाजपा उम्मीदवार हैं मुश्किल में, दो कदम चलने को भी नहीं मिल रहा साथ

ड्रग्स के बदले जिस्म का सौदा : अहमदाबाद में बड़े घरों की 48 लड़कियां ड्रग्स के चक्रव्यूह से छुड़ाई गईं

Good News : महिला सुरक्षा पर ऑटो व कैब ड्राइवरों को प्रशिक्षण देगी कोलकाता ट्रैफिक पुलिस

आयरन व स्टील ग्रुप के यहां आयकर का छापा, 100 करोड़ के बेहिसाब धन का पता चला

ऊपर