एक बेटी के लिए दूसरी को बेचा 10000 में

नई दिल्ली : किसी भी इंसान के लिए उसकी हर संतान समान महत्व रखती है लेकिन गरीबी के सामने व्यक्ति लाचार हो जाता है। कुछ ऐसा ही हुआ आंध्र प्रदेश में जहां एक दंपत्ति को अपने 16 साल की बेटी के इलाज के लिए अपनी दूसरी 12 साल की बेटी को दूसरों के हाथों बेचने पर मजबूर होना पड़ा। आंध्र प्रदेश के नेल्लोर में दैनिक मजबूरी करने वाले एक जोड़े ने अपनी 16 साल की बेटी के इलाज के लिए अपनी दूसरी बेटी को एक शख्स को बेच दिया। माता-पिता अपनी बड़ी बेटी के इलाज का खर्च उठाने में असमर्थ थे जो एक सांस की बीमारी से पीड़ित है। गरीब दंपति ने अपनी दूसरी बेटी को महज 10 हजार रुपये में चिन्ना सुब्बैया नाम के शख्स को बेच दिया। उसने बुधवार को लड़की से शादी कर ली। हालांकि मामले की जानकारी मिलते ही महिला और बाल कल्याण विभाग के अधिकारियों ने उस नाबालिग को बचा लिया। नाबालिग को जिला चाइल्डकेयर केंद्र में भेज दिया गया है जहां उसकी काउंसलिंग की जा रही है। पुलिस के अनुसार, सुब्बैया की पत्नी ने पारिवारिक कलह के चलते उसे छोड़ दिया था। बताया जा रहा है कि उसने पीड़ित के माता पिता को पहले भी दूसरी बेटी से शादी करने का प्रस्ताव दिया था। सुब्बैया ने नाबालिग को ‘खरीदने’ के बाद बुधवार की रात को अपने रिश्तेदारों के घर धामपुर लेकर आ गया। पड़ोसियों ने बच्ची को चिल्लाते और रोते हुए सुना। पड़ोसी सुब्बैया के रिश्तेदारों के घर गए और पूछताछ की कि क्या हो रहा था।” इसके बाद उन्होंने स्थानीय सरपंच से संपर्क किया जिसके बाद उसे बचाकर बाल विकास सेवा के अधिकारियों के हवाले कर दिया गया। पुलिस ने सुब्बैया के खिलाफ मामला दर्ज किया है और उससे पूछताछ कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अब अनुब्रत मंडल आये आयकर के निशाने पर, अगले सप्ताह बुलाये गये

करोड़ों की बेनामी संपत्ति का आरोप कोलकाता : आयकर विभाग ने ​अगले सप्ताह तृणमूल नेता अणुव्रत मंडल को बेनामी संपत्तियों से संबंधित मामलों में नोटिस भेजी आगे पढ़ें »

vote

जंगीपुर व शमशेरगंज में मतदान तिथि बदली, अब 16 मई को मतदान

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : चुनाव आयोग ने जंगीपुर व शमशेरगंज में 13 मई को होने वाले मतदान की तिथि बदल दी है। अब यहां 16 मई आगे पढ़ें »

ऊपर