नए रेस्तरां से फिर सड़क किनारे लौटा ‘बाबा का ढाबा’

नई दिल्ली : चार दिन की चांदनी, फिर अंधेरी रात… यह कहावत ढाबे वाले बाबा पर सटीक बैठ रही है। दिल्ली के मालवीय नगर में सड़क किनारे ढाबा खोले बुजुर्ग दंपती का वीडियो वायरल होने के बाद ग्राहकों की भीड़ लग गई थी और फिर वो रातोंरात मशहूर हो गए थे। वीडियो में बुजुर्ग कांता प्रसाद रो रहे थे क्योंकि कोरोना लॉकडाउन के कारण उनका रोजगार ठप पड़ गया था।
-फिर पलटी मारी कांता प्रसाद की किस्मत
कांता प्रसाद और बादामी देवी का ढाबा जब कोरोना की पहली लहर में ठप पड़ गया तो एक यूट्यूबर ने उनका वीडियो बनाकर लोगों से इनके ढाबे में खाने की अपील की थी। उनकी अपील पर ‘बाबा का ढाबा’ तुरंत गुलजार हो गया और ग्राहकों की लंबी-लंबी लाइनें लग गईं। कई लोगों ने मदद के तौर पर चंदे भी दिए। इस कारण बुजुर्ग दंपती ने न केवल नया चमचमाता रेस्तरां खोल लिया बल्कि सभी कर्जे उतार दिए और खुद और परिवार के लिए स्मार्टफोन भी खरीद लिए। बाद में बाबा का नया ढाबा फूड डिलिवरी ऐप जोमाटो पर भी लिस्ट हो गया।
-फिर लगा लॉकडाउन और वही तंगहाली
हालांकि, अब वही पुरानी कहानी दुहराने लगी है। कांता प्रसाद और बादामी देवी का नया रेस्तरां तो फरवरी में ही बंद हो गया था और दोनों सड़क किनारे के पुराने ढाबे को ही खोल लिया था। लेकिन, कोरोना की दूसरी लहर में फिर से लॉकडाउन लगा तो पुराना ढाबा भी बंद करना पड़ा और यह दंपति फिर से आर्थिक तंगी का शिकार हो गई।”कोविड लॉकडाउन के कारण हमारे ढाबे पर ग्राहकों का आना कम हो गया। हम लॉकडाउन से पहले हर दिन 3,500 रुपये तक की बिक्री करते थे जो अब 1,000 रुपये तक रह गया है। इतने पैसे से आठ सदस्यों का हमारे परिवार का भरण-पोषण नहीं हो पाता है।”
-वायरल हुए वीडियो से मशहूर हुआ था बाबा का ढाबा
ध्यान रहे कि पिछले साल वीडियो वायरल होने के बाद पैसे मिले तो कांता प्रसाद ने 5 लाख रुपये की लागत से नया रेस्तरां खोला था और कुछ लोगों को नौकरी पर भी रख ली थी। उनका नया रेस्तरां कुछ दिनों तक लोगों के आकर्षण का केंद्र बना रहा, लेकिन जल्द ही ग्राहकों को रुझान घटने लगे। “हम महीने में औसतन 40 हजार रुपये से ज्यादा की बिक्री कभी नहीं कर पाए। हमें घाटा उठाना पड़ा। मुझे लगा कि हमने नया रेस्तरां खोलने का गलत सुझाव मान लिया। हमने जो 5 लाख रुपये लगाए थे, उनमें से कुर्सियां, बर्तन, कुकिंग मशीन आदि बेचकर सिर्फ 36,000 रुपये ही वापस मिल सके।”
-यूट्यूबर पर धोखाधड़ी का लगाया था आरोप
दरअसल, जिस यूट्यूबर गौरव वासन ने कांता प्रसाद का वीडियो बनाया था, बाद में कांता ने उन्हीं पर पैसे हड़पने का आरोप लगा दिया। इतना ही नहीं, बुजुर्ग ने वासन के खिलाफ धोखाधड़ी का केस भी दर्ज करवा दिया था। उनका आरोप था कि वासन ने अपने और अपने सगे-संबंधियों के बैंक डीटेल और मोबाइल नंबर ही शेयर किए थे। उन्होंने कहा कि दान के पैसे उनके ही अकाउंट में आए थे जिसमें से बड़ी रकम वासन ने हड़प लिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आज लौटेंगे राज्यपाल, फिर कर सकते हैं अमित शाह से मुलाकात

पहले राज्यपाल को शुक्रवार को लौटना था कोलकाता सन्मार्ग संवाददाता नयी दिल्ली/कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ शुक्रवार दोपहर कोलकाता नहीं लौटेंगे बल्कि आज यानी आगे पढ़ें »

राज्य में कोरोना की त्रासदी के बीच महंगाई में रिकार्ड वृद्धि

पिछले तीन माह से थोक और खुदरा महंगाई बढ़ने से जनजीवन त्रस्त घर की रसोई अब जरूरत से अधिक नियंत्रित हुयी दालें, प्याज, आलू, आगे पढ़ें »

ऊपर