गणतंत्र दिवस पर जामनगर की खास पगड़ी में नजर आए पीएम मोदी

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 72वें गणतंत्र दिवस समारोह के लिए खास तरह की पगड़ी का चुनाव किया है। उन्‍होंने इस बार गुजरात के जामनगर की खास पगड़ी पहनी है। सूत्रों के मुताबिक, जामनगर के शाही परिवार की तरफ से ऐसी पगड़ी उन्‍हें तोहफे में दी गई थी। मोदी हर साल गणतंत्र दिवस पर अलग तरह की पगड़ी पहने नजर आते है। पिछले साल उन्‍होंने ‘बंधनी’ पहनी थी जो कमर तक है। केसरिया रंग की पगड़ी में पीला रंग भी समाहित था। 2015 से लेकर अबतक हर साल गणतंत्र दिवस पर मोदी खास तरह की पगड़‍ियां पहने दिखे हैं। एक नजर उनके गणतंत्र दिवस लुक पर।
इस साल पहनी जामनगर की खास पगड़ी
प्रधानमंत्री मोदी 72वें गणतंत्र दिवस पर जामनगर की पगड़ी पहने नजर आए। उन्‍होंने इंडिया गेट पर स्थित नैशनल वॉर मेमोरियल जाकर वीरगति प्राप्‍त करने वाले देश के बहादुर जवानों को श्रद्धांजलि दी। उनके साथ तीनों सेनाओं के प्रमुख भी मौजूद रहे।

2020 में ‘बंधनी’ पहने हुए थे पीएम मोदी
71वें गणतंत्र दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने ‘बंधनी’ को चुना था। केसरिया रंग की पगड़ी का एक सिरा कमर तक जा रहा था।
2019 में चुनी पीली पगड़ी
70वें गणतंत्र दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने पीली पगड़ी पहनी थी। उसमें हरा रंग भी समाहित था और कुछ सुनहरी रेखाएं भी थीं। साथ ही उन्‍होंने स्‍लीवलेस बंदगला जैकेट और सफेद कुर्ता पहना हुआ था।
2018 में ऐसा था पीएम मोदी का लुक
साल 2018 के गणतंत्र दिवस के दौरान पीएम मोदी की पगड़ी कई रंगों वाली थी। उनका पॉकेट स्‍कवायर भी बहुरंगी था। मोदी ने उस साल क्रीम रंग का कुर्ता और काले रंग की बंदगला जैकेट को समारोह के लिए चुना था।
2017 में पीएम मोदी ने पहनी थी गुलाबी पगड़ी
सााल 2017 में पीएम मोदी ने पगड़ी के लिए गुलाबी रंग चुना। इसमें एक बॉर्डर था और साथ ही सिल्‍वर रंग की भी छाप थी। मोदी ने सफेद डॉट्स वाली ब्‍लैक स्‍लीवलेस जैकेट पहन रखी थी।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

आजमाकर देखें आटे का यह चमत्कारी उपाय, नहीं होगी धन की समस्या

कोलकाता : कोरोना वायरस के चलते यह साल पूरी तरह बाधित रहा है। काम-धंधे को छोड़कर लोग अपने घरों में बंद रहने को मजबूर हो आगे पढ़ें »

पत्नी व बच्चों को आग में जलाकर मारने का प्रयास किया

पुलिस वाहन का घेराव कर स्थानीय लोगों ने किया प्रदर्शन दुर्गापुर : दुर्गापुर थाना क्षेत्र अंतर्गत धूपचुरिया शिव मंदिर निवासी चिरंजीत लॉ ने शनिवार की रात आगे पढ़ें »

ऊपर