ओमीक्रॉन को लेकर सारा कन्फ्यूजन करें दूर, भारत में क्या-क्या प्रतिबंध से लेकर राज्य की स्थिति यहां जानें सब…

नई दिल्लीः भारत में कोरोना की भयावह दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार डेल्टा वेरिएंट से भी 6 गुना संक्रामक ओमीक्रॉन के सामने आने के बाद पूरी दुनिया डरी हुई है। अबतक 23 देशों में इसके संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। अच्छी बात यह है कि भारत में अभी ओमीक्रोन वेरिएंट का एक भी मामला सामने नहीं आया है। लेकिन देश में कमजोर होती महामारी के बीच सरकार कोई जोखिम नहीं ले सकती। लिहाजा 15 दिसंबर से रेगुलर इंटरनेशनल फ्लाइट्स शुरू करने की योजना पर ब्रेक लग गया है। केंद्र ने इंटरनेशनल ट्रैवलर्स के लिए नए गाइडलाइंस जारी किए हैं। साथ ही कई राज्यों ने घरेलू यात्राओं के लिए भी नियमों को सख्त कर दिया है।

ओमीक्रोन वेरिएंट को लेकर चिंता के बीच केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को निर्देश दिया है कि इंटरनेशनल फ्लाइट्स से आने वाले यात्रियों पर कड़ी नजर रखी जाए। इसके साथ ही केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर लागू की गईं देशव्यापी पाबंदियों को 31 दिसंबर तक के लिए बढ़ा दिया है। कुछ राज्यों ने भी ओमीक्रोन के खतरे से निपटने के लिए रोकथाम के लिए कुछ नए आदेश जारी किए हैं।

विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए केंद्र की नई गाइडलाइन्स

  • ऐसे यात्रियों को एयर सुविधा पोर्टल पर सेल्फ-डेक्लेरेशन फॉर्म सबमिट करना होगा। इसके साथ ही, यात्रा की तिथि से 72 घंटे पहले का आरटी-पीसीआर टेस्ट की नेगेटिव रिपोर्ट को पोर्टल पर अपलोड करना होगा। यात्रियों को यह डेक्लेरेशन भी जमा करना होगा कि रिपोर्ट विश्वसनीय है। इसके अलावा उन्हें आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करना होगा।
  • एयरलाइंस को इन सभी शर्तों का पालन सुनिश्चित कराना होगा।

विदेश से आने के बाद यात्रियों के लिए नियम

  • थर्मल स्क्रीनिंग और सेल्फ-डेक्लेरेशन की कॉपी
  • जोखिम वाले देशों (ऐट-रिस्क कंट्रीज) से या वहां से होकर आने वाले यात्रियों के लिए अराइवल के बाद आरटी-पीसीटीर टेस्ट अनिवार्य है। टेस्ट रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही उन्हें मूवमेंट की इजाजत होगी। हालांकि, नेगेटिव रिपोर्ट के बाद भी सबसे पहले उन्हें 7 दिनों के लिए क्वारंटीन रहना होगा। आठवें दिन फिर टेस्ट होगा। अगर रिपोर्ट पॉजिटिव आई तो सैंपल को जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजा जाएगा।
  • बिना जोखिम वाले देशों से भी आने वाले कम से कम 2 प्रतिशत यात्रियों का रैंडम आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जाएगा। ऐसे देशों से आने वाले यात्रियों को घर पर 14 दिनों के लिए सेल्फ-मॉनिटरिंग की सलाह दी गई है यानी उन्हें अगर किसी तरह के लक्षण महसूस होते हैं तो तुरंत अथॉरिटी को जानकारी दें।
  • बंदरगाहों या लैंडपोर्ट पर आने वाले इंटरनेशनल ट्रैवलर्स के लिए भी यही नियम हैं।
  •  5 साल से कम उम्र के बच्चों को आने या आने के बाद आरटी-पीसीआर टेस्ट से छूट दी गई है। हालांकि, अगर उनमें लक्षम मिले तो टेस्ट, ट्रीटमेंट समेत स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर को फॉलो किया जाएगा।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

तूफान में गिरा था सफेद चंदन का पेड़, हो रहा है गायब हो रही है जांच

निदेशक ने किया दावा किया की कुछ पेड़ तूफान में गिर गये थे हावड़ा : शिवपुर बोटैनिकल गार्डन के चमेली खंड के सामने से गायब हुआ आगे पढ़ें »

कोलकाता से यूपी के चंदौली की दूरी महज 6 घंटे में होगी तय

एक्सप्रेसवे के लिए जमीन अधिग्रहण व प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने का काम शुरू कोलकाता/चंदौली : वर्तमान में कोलकाता से चंदौली पहुंचने में सड़क मार्ग से 13 से आगे पढ़ें »

ऊपर