दिल्ली में 18 अक्टूबर से चलेगा ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ मुहिम

नई दिल्ली : दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से बढ़ते प्रदूषण को लेकर सहयोग मांगा है। सीएम केजरीवाल ने कहा है कि राजधानी दिल्ली में तीन चार दिनों से प्रदूषण बढ़ने लगा है, क्योंकि आस पास के राज्यों में पराली जलाना शुरू हो चुका है। इस बीच केजरीवाल ने कहा है कि हम दिल्ली में 18 अक्टूबर से ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ मुहिम चलाएंगे।
किसान पराली जलाने को मजबूर- केजरीवाल
सीएम केजरीवाल ने कहा, ‘’एक महीने से मैं हर रोज़ दिल्ली में वायु प्रदूषण का डेटा ट्वीट कर रहा हूं। दिल्ली का अपना प्रदूषण सेफ लिमिट में है। पिछले 3-4 दिन से प्रदूषण बढ़ने लगा है, क्योंकि आस-पास के राज्यों में राज्य सरकारों ने अपने किसानों की मदद नहीं की। इसलिए किसान पराली जलाने के लिए मज़बूर हैं।’’
‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ पहल की होगी शुरूआत
सीएम केजरीवाल ने कहा, ‘’हमने पिछले साल ‘रेड लाइट ऑन, गाड़ी ऑफ’ पहल शुरू की थी। यह 18 अक्टूबर से फिर से शुरू हो जाएगी, जैसे ही आप रेड सिग्नल पर रुकते हैं, अपने वाहन के इंजन को बंद कर दें। आप आज ही शुरू कर सकते हैं, हालांकि इसे औपचारिक रूप से 18 तारीख को लॉन्च किया जाएगा।’’
केजरीवाल ने आगे कहा, ‘’अगर आपने ग्रीन दिल्ली ऐप डाउनलोड नहीं किया है, तो करें। यदि आप दिल्ली में कहीं भी प्रदूषण देखते हैं। कोई भी उद्योग जो प्रदूषण पैदा कर रहा है, कचरा जला रहा है। आप ऐप के माध्यम से इनकी शिकायत कर सकते हैं। हमारी टीम मौके पर पहुंचेगी और प्रदूषण के स्रोत को रोकेगी।’’
हफ्ते के एक दिन करें सार्वजनिक वाहनों का उपयोग- केजरीवाल
केजरीवाल ने लोगों से अपील करते हुए कहा, ‘’हमें सप्ताह में कम से कम एक बार अपना वाहन नहीं निकालने और मेट्रो, बस, या दूसरों के साथ वाहन साझा करने का निर्णय लेना चाहिए। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर हम ऐसा करते हैं तो प्रदूषण को कम किया जा सकता है और ईंधन की बचत की जा सकती है।’’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कैलाश विजयवर्गीय को हाई कोर्ट से मिली 30 तक राहत

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय सहित तीन भाजपा नेताओं को सोमवार को हाई कोर्ट से राहत मिल गई। जस्टिस देवांशु बसाक और जस्टिस आगे पढ़ें »

ऊपर