जलजमाव खत्म करना हमारी प्राथमिकता : राजेश सिन्हा

मधु सिंह 
कोलकाता : वार्ड नं. 25 में इस बार तृणमूल ने राजेश सिन्हा को चुनावी मैदान में उतारा है। राजेश सिन्हा तृणमूल कांग्रेस हिन्दी सेल के उपाध्यक्ष हैं और वृहत्तर बड़ाबाजार की राजनीति में कोई नया चेहरा वह नहीं हैं। राजेश सिन्हा के पिता अनय गोपाल सिन्हा एक समय में जगदल से कांग्रेस के विधायक थे। राजेश सिन्हा भी पहले कांग्रेस में थे, लेकिन बाद में वह तृणमूल में शामिल हो गये। अबकी बार उन्हें पूरा भरोसा है कि जनता का आशीर्वाद उन्हें जरूर मिलेगा। सन्मार्ग ने राजेश सिन्हा से बातचीत की और उन्होंने कई मुद्दों पर काफी कुछ कहा।
उम्मीदवार नया हूं, मगर मेरा चेहरा नया नहीं है
राजेश सिन्हा ने कहा, ‘चुनाव प्रचार काफी अच्छा चल रहा है। लोगों में काफी उत्साह है। मैं 25 नं. वार्ड के लिए उम्मीदवार नया हो सकता हूं, लेकिन इसी वार्ड में मेरा जन्म हुआ। इस कारण मेरा चेहरा लोगों के लिए नया नहीं है। महिलाओं और युवाओं में काफी उत्साह है क्योंकि मां, माटी, मानुष की सरकार ने काफी विकास कार्य किये। 25 नं. वार्ड में काम पहले भी हुए, लेकिन राज्य सरकार की सभी योजनाओं को घर-घर पहुंचाने का लक्ष्य है। उम्मीद है कि आने वाले दिनों में ये वार्ड एक अग्रणी वार्ड बनकर उभरेगा।’
जलजमाव की समस्या पर काम सबसे जरूरी
जीतने पर वार्ड में क्या प्राथमिकता होगी पूछने पर उन्होंने कहा, ‘पार्षद का काम कभी खत्म नहीं होता क्योंकि पार्षद को अपनी सेवाएं 24*7 देती रहनी होंगी। हालांकि जो काम एकदम युद्ध स्तर पर करना जरूरी है, उसमें जलजमाव की समस्या सबसे अहम है। लोगों के मकानों व घरों के अंदर पानी घुस जाता है और कई दिनों तक निकासी नहीं हो पाती है। अगर इस वार्ड से मुझे जनता का आशीर्वाद मिलता है तो सबसे पहला काम यही करूंगा। इस वार्ड में जमीन थोड़ी और नीचे हो जाती है जिस कारण काफी लोगों ने जलजमाव को लेकर शिकायतें की।’
भविष्य में भाजपा का केवल पार्टी कार्यालय ही बचेगा
भाजपा को लेकर राजेश सिन्हा ने कहा कि भाजपा ने पश्चिम बंगाल के राजनीतिक जीवन का क्लाइमैक्स प्रचार कर लिया है। विधानसभा चुनाव के समय भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने डेली पैसेंजरी की, लेकिन इसके बावजूद सीएम ममता बनर्जी ने अपने ही पिछले रिकॉर्ड को तोड़ा। आगामी भविष्य में भाजपा का भी हाल वामफ्रंट और कांग्रेस की तरह हो जाएगा और केवल पार्टी कार्यालय और कुछ चेहरे ही बच जाएंगे। जमीनी स्तर के कार्यकर्ता वापस तृणमूल से जुड़ रहे हैं क्योंकि कार्यकर्ताओं को ये समझ में आ रहा है कि राज्य का विकास केवल ममता बनर्जी ही कर सकती हैं।
जीत के प्रति निश्चित
राजेश सिन्हा ने कहा, ‘राजनीतिक रूप से मेरा प्रतिद्वंद्वी हर उम्मीदवार है। वामफ्रंट हो या कांग्रेस अथवा भाजपा, लेकिन मैं तृणमूल का उम्मीदवार हूं और इस कारण पूरी तरह आश्वस्त हूं कि पूरे कोलकाता में केवल तृणमूल का परचम लहरायेगा। यहां की जनता ने मुझे आश्वासन दिया है कि लोगों का भरपूर आशीर्वाद मुझे मिलेगा और भारी मतों से तृणमूल की जीत होगी।’

Visited 606 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

IND vs PAK T20 World Cup: भारत-पाकिस्तान मैच के टिकट का दाम सुनकर चौंक जाएंगे

नई दिल्ली: न्यूयॉर्क में होने वाले ICC टी-20 विश्वकप में भारत और पाकिस्तान की टीमें भिड़ेंगी। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) अमेरिका में क्रिकेट को बढ़ावा आगे पढ़ें »

IPL 2024: KKR के खिलाड़ियों को गौतम गंभीर ने दे डाली नसीहत, बोले…

कोलकाता: 22 मार्च से IPL शुरू होने जा रहा है। पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर की घर वापसी हुई। पिछले सीजन तक लखनऊ सुपर जायंट्स आगे पढ़ें »

ऊपर
error: Content is protected !!