रेलवे ने शुरू की नई सुव‍िधा, लंबी लाइन से म‍िलेगा छुटकारा और झटपट म‍िलेगा ट‍िकट

नई दिल्ली : अगर आप भी अक्‍सर ट्रेन से सफर करते हैं तो यह खबर आपके काम की है। रेलवे की तरफ से यात्र‍ियों की सुव‍िधा के ल‍िए ट‍िकट‍िंग की नई सुव‍िधा शुरू की गई है। इससे यात्र‍ियों को लंबी-लंबी लाइन में लगकर ट‍िकट लेने से छुटकारा म‍िलेगा। नई सुव‍िधा के तहत ऑटोमेट‍िक ट‍िकट वेंड‍िंग मशीन (ATVM) से म‍िलने वाली सुव‍िधाओं के ल‍िए आप ड‍िज‍िटल ट्रांजेक्‍शन से भी भुगतान कर सकेंगे।
ज्‍यादा से ज्‍यादा ड‍िज‍िटल मोड में पेमेंट करने की अपील
इसके तहत आप ATVM से ट‍िकट, प्‍लेटफॉर्म ट‍िकट और मंथली पास लेने के ल‍िए ड‍िजीटल मोड में पेमेंट कर सकते हैं। कई रेलवे स्‍टेशनों पर लगाए गए ATVM और यूपीआई और क्‍यूआर कोड की व्‍यवस्‍था की गई है। आप इसके जर‍िये एटीवीएम स्‍मार्ट कार्ड को भी र‍िचार्ज करा सकते हैं। रेलवे की तरफ से इस सुव‍िधा को शुरू करने के मौके पर यात्र‍ियों से अपील की क‍ि ज्‍यादा से ज्‍यादा ड‍िजीटल मोड में पेमेंट करें और लंबी लाइन से छुटकारा पाए।
लंबी-लंबी लाइन से म‍िलेगा छुटकारा
रेलवे की तरफ से ATVM की सुव‍िधा ऐसे स्‍टेशनों पर शुरू की जा रही है, जहां पर ज्‍यादा यात्र‍ियों की ज्‍यादा भीड़भाड़ रहती है। ऐसे स्‍टेशनों को पर अक्‍सर रेलवे बोर्ड को यात्र‍ियों की तरफ से घंटों लाइन में लगकर ट‍िकट लेने की श‍िकायत म‍िली थी। कई बार लंबी-लंबी लाइन में लगने से यात्र‍ियों की ट्रेन छूटने के भी मामले सामने आए हैं।
कैसे काम करेगा यह
इस सुव‍िधा के तहत आपको पेटीएम, फोनपे, फ्रीचार्ज और UPI बेस्ड मोबाइल एप से QR कोड स्कैन करके पेमेंट करना होगा। QR कोड आपको मशीन पर फ्लैश होता नजर आएगा, जिसके बाद आपको इसे स्कैन करना होगा। इसे स्‍कैन करने और पेमेंट करने के बाद आपको अपने गंतव्‍य का ट‍िकट मि‍ल जाएगा। रेलवे की तरफ से डिजिटल पेमेंट की सुव‍िधा को बढ़ावा देने के लिए क्यूआर कोड से टिकट खरीदने की फैसेल‍िटी शुरू की गई है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अंचल कमेटियों का गठन कहीं उल्टा न पड़ जाये भाजपा को

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : प्रदेश भाजपा में भले ही दस्तावेजों में मण्डल कमेटी का कार्य काफी हद तक हो गया है, लेकिन जमीनी स्तर पर असलियत आगे पढ़ें »

ऊपर