कोरोना संकट के बीच रेलवे ने कसी कमर, चलाई जाएंगी ‘ऑक्सीजन एक्सप्रेस’ ट्रेनें

नई दिल्लीः देश में कोरोना के मामले रोज नया रेकॉर्ड बना रहे हैं और इसके साथ ही देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन की कमी की भी खबरें आ रही है। रेलवे ने लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) और ऑक्सीजन सिलेंडरों को ले जाने के लिए ऑक्सीजन एक्सप्रेस चलाने की योजना बनाई है। इन ट्रेनों को निर्बाध गति से चलाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाए जा रहे हैं। रेल मंत्रालय ने एक बयान में यह जानकारी दी है। महाराष्ट्र से खाली टैंकर सोमवार को चलेंगे जो विशाखापत्तनम, जमशेदपुर, राउरकेला, बोकारो से ऑक्सीजन उठाएंगे ।
रेलवे ने बताया कि टेक्निकल ट्रायल्स के बाद खाली टैंकरों को कलमबोली/बोइसर से मुंबई भेजा जाएगा और फिर वहां से वाइजाग जमशेदपुर/राउरकेला/बोकारो भेजा जा रहा है। वहां इनमें लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन भरी जाएगी। कोविड संक्रमण के गंभीर मामलों के इलाज में ऑक्सीजन की अहम भूमिका है। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र सरकारों ने रेलवे से यह पता लगाने का अनुरोध किया था कि क्या रेलवे लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन टैंकरों को ले जा सकती है।

कैसे हुआ ट्रायल
रेलवे ने तुरंत इस पर कार्रवाई की। लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन को रोल ऑन रोल ऑफ सर्विस के जरिए ले जाया जा सकता है। इसके लिए रोड टैंकर्स को फ्लैट वैगंस पर रखना होगा। रोड ओवरब्रिज और ओवरहेड इक्विपमेंट की वजह से कई स्थानों पर ऊंचाई कम है। यही कारण है कि 3320 मिमी ऊंचाई वाले रोड टैंकर मॉडल T 1618 को इस काम के लिए उपयुक्त माना गया। इसी आधार पर कई स्थानों पर ट्रायल किया गया। 15 अप्रैल को मुंबई के कलमबोली गुड्स शेड में डीबीकेएम वैगन को लाया गया और साथ ही लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन से भरा एक टी 1618 टैंकर भी यहां लाया गया। इंडस्ट्री और रेलवे के प्रतिनिधियों ने जॉइंट मेजरमेंट किया।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

फिर अशान्त हुआ भाटपाड़ा, बमबारी में युवक की गई जान

भाटपाड़ा : चुनाव परिणाम आने के बाद भी बैरकपुर शिल्पांचल के कई इलाके अभी भी राजनीतिक संघर्ष के कारण अशांत बने हुए हैं। इस क्रम आगे पढ़ें »

कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद राजीव सातव का कोरोना से उबरने के बाद निधन

पुणे: कांग्रेस सांसद राजीव सातव का रविवार को एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। कुछ दिनों पहले ही वह कोविड से उबर गए थे। आगे पढ़ें »

ऊपर