15 साल की लड़की के प्यार में पागल हुए ‘राहुल गांधी’, पकड़े गए रंगे हाथ

अजमेरः जिले के गंज थाना क्षेत्र का रहने वाला 29 वर्षीय ट्यूशन टीचर अपनी 15 वर्षीय स्टूडेंट के प्यार में इतना पागल हो गया कि उसने नाबालिग बच्ची को गुमराह कर सुसाइड करने का फैसला कर लिया। दोनों बोरा की पहाड़ियों में 2 दिन तक घूमते रहे। मामले की रिपोर्ट के बाद पुलिस की सजगता से दोनों की जान बचा ली गई। पुलिस ने बोराज पहाड़ियों से नाबालिग को दस्तयाब करने के साथ ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में गंज थाना पुलिस विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही में जुटी है।

पुलिस ने पहाड़ों पर चालाया तलाशी अभियान
मामले की जानकारी देते हुए दरगाह पुलिस उपाधीक्षक रघुवीर प्रसाद शर्मा ने बताया कि 15 मार्च को थाना क्षेत्र के रहने वाली नाबालिग के पिता ने ट्यूशन टीचर राहुल गांधी के विरुद्ध नामजद मुकदमा दर्ज कराते हुए उसे बहला-फुसलाकर ले जाने की रिपोर्ट दर्ज कराई। इस मामले में पुलिस द्वारा तफ्तीश की गई और अलग-अलग स्थानों पर सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए लेकिन प्रेम में पागल ट्यूशन टीचर राहुल और नाबालिग का कोई पता नहीं चल पाया। लगातार पुलिस द्वारा इस मामले में तफ्तीश करने के बाद फुटेज के आधार पर दोनों को बोराज पहाड़ियों पर जाते देखा गया, जिसके आधार पर दर्जनों पुलिसकर्मियों द्वारा पहाड़ पर चेकिंग अभियान चलाया गया, जहां दोनों एक साथ दिखाई दिए।
दोनों की तलाशी में पुलिस को मिले सुसाइड नोट
पुलिस ने लड़की को दस्तयाब करने के बाद आरोपी को गिरफ्तार किया है। दोनों की तलाशी में अपने हाथों से लिखे सुसाइड नोट मिले हैं इस विषय में पुलिस जांच में जुटी है। नाबालिग और ट्यूशन टीचर द्वारा आपसी सहमति से सुसाइड करने की बात लिखी गई और दोनों की उम्र के कारण वह शादी नहीं कर सकते, इसका हवाला दिया गया। पुलिस द्वारा इस मामले में आरोपी राहुल गांधी के खिलाफ अपहरण सहित विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। साथ ही लड़की का मेडिकल मुआयना भी करवाया गया है, जिससे की अग्रिम कार्रवाई की जा सके। आरोपी को न्यायालय में पेश कर इस मामले में अग्रिम अनुसंधान किया जाएगा।
शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता को ‘सिटी ऑफ फ्यूचर’ बनायेगी भाजपा : मोदी

दीदी ओ दीदी अब की बार नहीं कहा, केवल की विकास की बात कोलकाता : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल में अपनी पहली वर्चुअली चुनावी सभा आगे पढ़ें »

मेरी लड़ाई किसी से नहीं, काम मेरी पहचान – फिरहाद हकीम

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पोर्ट विधानसभा चुनाव में मैं किसी को अपना प्रतिद्वंदी नहीं मानता हूँ। मेरी लड़ाई किसी से नहीं बल्कि मेरी खुद से है। आगे पढ़ें »

ऊपर