प्रधानमंत्री मोदी एक दिवसीय दौरे पर उत्तराखंड में

पिथौरागढ़ : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को उत्तराखंड के एक दिवसीय दौरे पर यहां पहुंचे जहां उन्होंने भगवान शिव के धाम आदि कैलाश चोटी के दर्शन किए और पार्वती कुंड पहुंचकर पूजा-अर्चना की। पारंपरिक पगड़ी और रंगा (शरीर के उपरी हिस्से में पहना जाने वाला वस्त्र) के पारंपरिक परिधान पहने मोदी ने पार्वती कुंड के किनारे स्थित प्राचीन शिव-पार्वती मंदिर में आरती की। स्थानीय पुजारियों वीरेंद्र कुटियाल ओर गोपाल सिंह ने उनकी पूजा संपन्न कराई। प्रधानमंत्री ने आदि कैलाश चोटी के सामने हाथ जोड़कर कुछ देर ध्यान भी लगाया। इस दौरान उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी उनके साथ मौजूद थे जिन्होंने सोशल मीडिया मंच ‘इंस्टाग्राम’ पर मोदी की एक रील भी पोस्ट की है।
शिल्प की एक प्रदर्शनी भी देखेंगे
मोदी कुमांउ क्षेत्र के अपने दिन भर के दौरे में सीमांत गुंजी गांव भी जाएंगे जहां वह स्थानीय लोगों तथा सुरक्षा बलों से मुलाकात के अलावा स्थानीय उत्पादों और शिल्प की एक प्रदर्शनी भी देखेंगे। इसके बाद वह अल्मोड़ा में भगवान शिव के एक और प्रसिद्ध धाम जागेश्वर तथा भी जाएंगे। जागेश्वर से वह वापस पिथौरागढ़ जाएंगे जहां वह एक जनसभा को संबोधित करेंगे। इस दौरान वह करीब 4200 करोड़ रूपये की लागत की योजनाओं का शिलान्यास तथा लोकार्पण भी करेंगे।
धामी ने कहा …
इससे पहले, मुख्यमंत्री ने एक टवीट में प्रधानमंत्री के उत्तराखंड आगमन पर उनका स्वागत किया। उत्तराखंड से विशेष लगाव के लिए प्रधानमंत्री का आभार प्रकट करते हुए धामी ने लिखा, ‘‘आपके कुशल नेतृत्व व मार्गदर्शन में प्रदेश में रोड, रेल और रोपवे निर्माण के माध्यम से धार्मिक, आध्यात्मिक और साहसिक पर्यटन को नये आयाम प्राप्त हो रहे हैं। आपके दृष्टिकोण के अनुरूप हमारी सरकार राज्य के सर्वांगीण तथा सर्वस्पर्शी विकास हेतु निरंतर कार्य कर रही है।’’

 

Visited 36 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

शरीर के लिए फायदेमंद है गुनगुना पानी, जानें इसके 5 लाभकारी गुण

नई दिल्ली: जल ही जीवन है वाली कहावत तो आप सब ने सुनी ही होगी। पानी जीवन के लिए कितना जरूरी है यह बात तो आगे पढ़ें »

कन्नड़ अभिनेत्री लीलावती का हुआ निधन, 85 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

बेंगलुरु: तमिल और तेलुगु सहित 600 से अधिक फिल्मों में काम कर चुकीं प्रख्यात कन्नड़ अभिनेत्री लीलावती (85) का शुक्रवार शाम बेंगलुरु शहर के बाहरी इलाके आगे पढ़ें »

ऊपर