भारत की पहली चालक रहित मेट्रो का प्रधानमंत्री मोदी ने किया उद्घाटन

 

नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को दिल्ली मेट्रो की ‘मेजेंटा लाइन’ पर भारत की पहली चालक रहित मेट्रो का उद्घाटन किया। इसके साथ ही ‘एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन’ पर ‘नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड’ सेवा भी शुरू की। सरकार ने कहा है कि चालक रहित ट्रेनें पूरी तरह से स्वचालित होंगी और 2021 के मध्य तक ‘पिंक लाइन’ पर मजलिस पार्क और शिव विहार के बीच चालक रहित मेट्रो सेवा की शुरुआत की जाएगी। प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि इन नवाचारों से दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अन्य शहरों के निवासियों के लिए सुखद परिवहन और अनुकूल यातायात के एक नए युग का सूत्रपात होगा। दिल्ली में ‘एयरपोर्ट एक्सप्रेस लाइन’ पर ‘नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड’ सेवा पूरी तरह से शुरू होने से देश के किसी भी भाग से जारी किए गए ‘रुपे-डेबिट कार्ड’ का इस्तेमाल यात्रा के लिए किया जा सकता है। यह सुविधा दिल्ली मेट्रो के समूचे नेटवर्क पर 2022 तक उपलब्ध कराई जाएगी।
चालक रहित मेट्रो की प्रमुख खूबियां
इसकी प्रणाली इतनी सुरक्षित है कि  कभी दो मेट्रो एक ही ट्रैक पर आ जाएं तो एक तय दूरी पर अपने आप रुक जाएंगी। मेट्रो में सफर के दौरान कई बार जो झटके लगते हैं, चालक रहित ट्रेन में नहीं होगा। ट्रेन में चढ़ने और उतरने के दौरान यात्रियों को किसी तरह की परेशानी नहीं होगी।
कैसे काम करता है इसका सिस्टम
चालक रहित मेट्रो कम्युनिकेशन बेस्ड ट्रेन कंट्रोल सिग्नलिंग सिस्टम (सीबीटीसी) से लैस है। यह सिस्टम वाई-फाई की तरह काम करता है। यह मेट्रो को सिग्नल देता है, जिससे वह संचालित होती है। मेट्रो ट्रेन में लगे रिसीवर सिग्नल मिलने पर मेट्रो आगे बढ़ाते हैं। मालूम हो कि इस प्रणाली का उपयोग विदेशों में कई महानगरों में किया जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ब्रेकिंग : बाली की विधायक वैशाली डालमिया हो सकती है भाजपा में शामिल

हावड़ा : बाली की विधायक वैशाली डालमिया हो सकती है भाजपा में शामिल । सूत्रों की मानें तो अगामी 31 जनवरी को डोमजूड़ स्टेडियम से  आगे पढ़ें »

गाजियाबाद : 11 साल के बच्चे ने मांगी 10 करोड़ की फिरौती

गाजियाबाद : पांचवीं क्लास में पढ़ने वाले 11 साल के बच्चे से आप क्या-क्या करने की उम्मीद कर सकते हैं । उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद आगे पढ़ें »

ऊपर