आखिर क्यों PM MODI ने कहा जो करना है वो…

नई दिल्लीः प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देश में कोरोना की ताजा स्थिति पर चर्चा करने के लिए जिलाधिकारियों से बात की। प्रधानमंत्री मोदी ने आठ राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों के जिलाधिकारियों से सीधा संवाद किया। पीएम मोदी ने जिलाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप ही इस युद्ध के विंग कमांडर हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना के खिलाफ इस्तेमाल होने वाले हथियारों के बारे में भी जानकारी दी और कालाबाजारी करने वाले लोगों पर सख्ती करने को कहा।

कौन-कौन थे शामिल?
बता दें कि इस बैठक में आठ राज्य और दो केंद्र शासित प्रदेश के मुख्यमंत्री और जिलाधिकारी शामिल थे। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के मुताबिक, बैठक में कर्नाटक, बिहार, असम, चंडीगढ़, तमिलनाडु, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, गोवा, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के अधिकारी हिस्सा ले रहे हैं। आइए यहां प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन की अहम बातें जानते हैं…
हर जिले की अलग-अलग चुनौतियां
इसके अलावा पीएम मोदी ने कहा कि हमारे देश में जितने जिले हैं, उतनी ही अलग अलग चुनौतियां भी हैं। आप अपने जिले की चुनौतियों को अच्छे से समझते हैं। इसलिए जब आपका जिला जीतता है, तो देश जीतता है। आपका जिला कोरोना को हराता है, तो देश कोरोना को हराता है।
वायरस से लड़ाई के खिलाफ ये हैं हथियार
प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में बताया कि वायरस से लड़ने के खिलाफ हमारे हथियार हैं- लोकल कन्टेनमेंट जोन, एग्रेसिव टेस्टिंग और लोगों तक सही और पूरी जानकारी। पीएम मोदी ने कहा कि अस्पताल में कितने बेड उपलब्ध हैं, कहां उपलब्ध हैं? ये जानकारी आसानी से उपलब्ध होने पर लोगों की सहूलियत बढ़ती है। इसी तरह कालाबाजारी पर लगाम हो, ऐसे लोगों पर सख्त कार्रवाई हो।
नीति के मामले आपको खुली छूट
पीएम मोदी ने जिलाधिकारियों से कहा कि अगर आपको लगता है कि सरकार की ओर से बनाई गई पॉलिसी में जिला स्तर पर इनोवेशन की जरूरत है तो मैं आपको खुली छूट देता हूं कि आप इनोवेशन करिए। अगर आपको लगता है कि इन इनोवेशन से देश और राज्यों को भी फायदा होगा तो सरकार तक इन्हें पहुंचाइए।
हर एक जीवन को बचाना हमारी जिम्मेदारी है
पीएम मोदी ने अपने संबोधन में यह भी कहा कि हमारी जिम्मेदारी संक्रमण को फैलने से रोकने की भी है। ये तभी संभव है जब हमें संक्रमण के स्केल की सही जानकारी होगी। टेस्टिंग, ट्रेकिंग, ट्रीटमेंट और कोविड  बिहेवियर पर ध्यान देने की जरूरत है। पीएम ने कहा कि कोरोना की इस दूसरी वेव में अभी ग्रामीण और दुर्गम क्षेत्रों में हमें बहुत ध्यान देना है। गांव में जागरुकता बढ़ानी है और उन्हें इलाज से जोड़ना है।
हमें ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत
पीएम मोदी ने कहा कि इस समय, कई राज्यों में कोरोना संक्रमण के आंकड़े कम हो रहे हैं, कई राज्यों में बढ़ रहे हैं। कम होते आंकड़ों के बीच हमें ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। बीते एक साल में करीब-करीब हर मीटिंग में मेरा यही आग्रह रहा है कि हमारी लड़ाई एक एक जीवन बचाने की है।
ऑक्सीजन प्लांट लगाने पर जोर
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पीएम केयर्स के माध्यम से देश के हर जिले के अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट्स लगाने पर तेजी से काम किया जा रहा है। कई अस्पतालों में ये प्लांट काम करना शुरु भी कर चुके हैं। हाल ही में चंडीगढ़ में ऑक्सीजन प्लांट लगाया गया है।

इस लड़ाई में टीकाकरण ही एक मात्र सशक्त माध्यम

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि टीकाकरण कोविड से लड़ाई का एक सशक्त माध्यम है, इसलिए इससे जुड़े हर भ्रम को हमें मिलकर दूर करना है। कोरोना के टीके की सप्लाई को बहुत बड़े स्तर पर बढ़ाने के निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। वैक्सीनेशन को लेकर व्यवस्थाओं और प्रक्रियाओं को स्वास्थ्य मंत्रालय लगातार जारी कर रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

माध्यमिक के लिए 50 : 50 सूत्र, एचएस के लिए 40 : 60 सूत्र से मिलेंगे अंक

माध्यमिक का 9वीं का वार्षिक और 10वीं की इंटरनल परीक्षा के आधार पर होगा रिजल्ट उच्च माध्यमिक के लिए 2019 की माध्यमिक और 11वीं की प्रैक्टिकल आगे पढ़ें »

लड़कियों के स्तनों को छूने से पहले…

कोलकाता : जानना चाहते हैं कि किसी लड़की के स्तनों को कैसे छुएं। बहुत से पुरुषों को समझ नहीं आता है कि वह पहली बार आगे पढ़ें »

ऊपर