कृषि कानून पर प्रधानमंत्री मोदी बोले – ‘किसानों को गुमराह कर रहा विपक्ष’

– प्रधानमंत्री ने गुजरात के कच्छ में किया सोलर एनर्जी प्लांट का शिलान्यास

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अपने गुजरात दौरे के दौरान विपक्ष को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि दिल्ली के किसानों को भ्रमित किया जा रहा है। किसानों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सत्ता में रहते जिन लोगों ने कृषि क्षेत्र में सुधार का काम नहीं किया आज भी किसानों को गुमराह कर अपना राजनीतिक हित साधने का प्रयास कर रहे हैं। विपक्ष किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर चला रहा है लेकिन देश के जागरूक किसान उनको इसका जवाब देंगे।

गुजरात में कृषि व पशुपालन की आधुनिक तकनीक को समृद्ध बताकर किसानों का उदाहरण देते हुए मोदी ने कहा कि पशुपालन का भारत की जीडीपी में 25 प्रतिशत योगदान है जो अनाज में दाल के योगदान से भी अधिक है।

‘किसानों के हित में लिया गया फैसला’ 
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि दिल्ली के आसपास आजकल किसानों को डराने की साजिश चल रही है। क्या अगर कोई आपसे दूध लेने का कॉन्ट्रैक्ट करता है तो क्या भैंस लेकर चला जाता है? जैसी आजादी पशुपालकों को मिल रही है, वैसी ही आजादी हम किसानों को दे रहे हैं। कई वर्ष से किसान संगठन इसकी मांग करते थे, विपक्ष आज किसानों को गुमराह कर रहा है लेकिन अपनी सरकार के वक्त ऐसी ही बातें करता था।

सरकार किसानों की शंका को दूर करने को तैयार

मोदी बोले कि मैं किसानों से कह रहा हूं कि उनकी हर शंका के समाधान के लिए सरकार तैयार है, किसानों का हित सरकार की प्राथमिकता है। हम किसानों की आय बढ़ाने के लिए फैसले ले रहे हैं। देश के हर कोने के किसान नए कानूनों के साथ हैं। जो लोग भ्रम फैला रहे हैं और राजनीति कर रहे हैं, किसानों के कंधों पर रखकर बंदूकें चलाई जा रही हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कच्छ में सिख किसानों के एक समूह से भी मुलाकात की। हालांकि, इस मुलाकात में किसानों ने पीएम मोदी के सामने अपने स्थानीय मुद्दों को उठाया।

कच्छ को पीएम मोदी ने दी सौगात
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज सरदार पटेल का सपना पूरा हो रहा है। अब कच्छ में दुनिया का सबसे बड़ा हाइब्रिड एनर्जी पार्क बन रहा है जितना बड़ा सिंगापुर और बहरीन हैं, उतना बड़ा ये पार्क है। ऐसे फैसलों के कारण क्लीन एनर्जी के क्षेत्र में हिंदुस्तान की जगह लगातार सुधर रही है। मोदी बोले कि कच्छ ने न्यू एज टेक्नोलॉजी की ओर बड़ा कदम बढ़ाया है। इस पार्क का सीधा लाभ स्थानीय किसानों को होगा। मोदी बोले कि पहले कहा जाता था कि कच्छ में विकास नहीं है, पहले यहां अफसर पोस्टिंग नहीं चाहते थे लेकिन अब सिफारिश करते हैं।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि कच्छ अब देश का सबसे विकसित जिलों में से एक गिना जाता है, यहां से अब पलायन कम होने लगा है। कच्छ कभी वीरान रहता था, लेकिन अब कच्छ दुनिया के पर्यटकों के लिए पसंदीदा स्थल बन रहा है। मोदी ने कहा कि भूकंप के बाद कच्छ ने कैसे विकास किया और खुद को खड़ा किया, उसपर दुनिया को स्टडी करनी चाहिए। भूकंप के अगले साल बाद जब राज्य में चुनावी नतीजे आए, तो 15 दिसंबर ही था और आज भी वही दिन है।

मोदी ने बताया संयोग का किस्सा
पीएम मोदी ने बताया कि आज से 118 साल पहले 15 दिसंबर को ही, अहमदाबाद में इंडस्ट्रियल एग्जीबिशन का उद्घाटन हुआ। उसका आकर्षण भानु ताप यंत्र था, जो कि सूर्य की गर्मी से चलने वाला यंत्र था। अब 118 साल बाद यहां सूरज की गर्मी से चलने वाले इतने बड़े पार्क का उद्घाटन हो रहा है। पीएम मोदी ने कहा कि इन पार्क से अब बिजली का बिल कम होने में मदद मिलेगी।

एक लाख को मिलेगा रोजगार
पीएम मोदी ने बताया कि इस एनर्जी पार्क से प्रदूषण से लड़ने में मदद मिलेगी, ये करीब नौ करोड़ पेड़ लगाने लायक है। पीएम मोदी ने कहा कि इससे एक लाख युवाओं को नौकरी मिलेगी, किसानों के लिए विशेष सुविधाएं की जा रही हैं। पीएम ने कहा कि हमने नहरों पर भी सोलर पैनल लगा दिए। पीएम मोदी ने कहा कि एनर्जी के साथ जल संरक्षण भी देश के लिए जरूरी है और इस ओर तेजी से काम जारी है। मोदी ने कहा कि वक्त के साथ बदलाव करना गुजरात की ताकत है, यहां की खेती को आधुनिकता से जोड़ा गया। गुजरात में किसान डिमांड वाली फसलों की पैदावार करता है। पीएम मोदी ने कहा कि डेयरी और अन्य सेक्टरों में सरकार टांग नहीं अड़ाती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले सीएम ने लगायी फटकार, फिर किया दुलार

पुरुलिया : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जिले के हुटमुड़ा मैदान में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया। उनके संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का आगे पढ़ें »

धुपगुड़ी में दर्दनाक हादसा : डम्पर के नीचे दबकर 14 लोगों की मौत

सन्मार्ग संवाददाता, धुपगुड़ी/कोलकाता : मंगलवार की रात धुपगुड़ी में हुए दर्दनाक हादसे में कम से कम 14 लोगों की मौत हो गयी। पत्थर ढोने वाले आगे पढ़ें »

ऊपर