मध्य प्रदेश में मेट्रो के साथ रैपिड रेल चलाने की योजना : मंत्री जयवर्धन सिंह

Bhopal Metro

भोपाल : मध्यप्रदेश के नगरीय विकास मंत्री जयवर्धन सिंह ने कहा कि राज्य में मेट्रो रेल के साथ ही रैपिड रेल चलाने की योजना बनाई जा रही है। अपने विभाग के पिछले 11 माह के विकास कार्यो का ब्यौरा देने के लिए एक पत्रकार सम्‍मेलन आयोजित किया, जिसमें सिंह इस बात का खुलासा किया। मेट्रो रेल की तुलना में रैपिड रेल अधिक तेज चलती है जो भविष्य में मध्य प्रदेश के लिए एक बहुत बड़ा सौगात होगा। इस योजना के तहत इन्दौर-उज्जैन, इन्दौर-पीथमपुर और इन्दौर-देवास रुट पर रैपिड रेल चलाने की योजना है। रैपिड रेल की संभाव्यता रपट दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन (डीएमआरसी) से बनवाई जा रही है।

सेटेलाइट टाऊनशिप में विकसित होंगे ये इलाके

नगरीय विकास मंत्री ने कहा कि हमने कुछ समय पहले मेट्रोपॉलिटन एरिया बनाने की घोषणा की थी। उन्होंने कहा कि इसकी वजह यह है कि भोपाल और इन्दौर जिस तेज गति से फैल रहे हैं उसमें यह बहुत जरुरी हो गया है कि उसके आस पास के शहरों को हम सेटेलाइट टाऊनशिप में विकसित करें। जिसकी आऊट लाइन भी तय हो गई है। साथ ही अंतिम चर्चा ग्रामीण विकास विभाग से चल रही है क्योंकि इसमें ग्रामीण क्षेत्र भी आयेगें। यह चर्चा पूरी होनी के बाद अधिकृत तौर पर मेट्रोपॉलिटन एरिया की घोषणा कर दी जायेगी।

डीजल बसों को हटाया जायेगा

सिंह ने बताया कि मध्यप्रदेश के शहरों में 350 इलेक्ट्रिक बसें चलाई जाएंगी तथा चरणबद्ध तरीके से धीरे-धीरे सार्वजनिक परिवहन से डीजल से चलने वाली बसों को हटाया जायेगा। 40 इलेक्ट्रिक बसें इन्दौर में चालू कर दी गई हैं और जल्द ही यह भोपाल, ग्वालियर और उज्जैन में भी चलने लगेंगी।

ई-रिक्शा भी प्रदेश के शहरों में शुरु किया जायेगा

विकास मंत्री ने बताया कि महिलाओं के लिये उनके द्वारा चलाया जाने वाला ई-रिक्शा भी प्रदेश के शहरों में शुरु किया जायेगा। उन्होंने बताया कि इन्दौर भोपाल की मेट्रो रेल परियोजना के लिये धनराशि की पहली किश्त स्वीकृत हो चुकी है। यह अगले माह मिल जायेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अपना कर्तव्य नहीं निभा रही हैं सीएम – मुकुल

कोलकाता : भाजपा के वरिष्ठ नेता व राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य मुकुल राय ने बंगाल में कैब के विरोध में हो रहे प्रदर्शन पर कहा आगे पढ़ें »

Bengal new Rajypal

मुख्यमंत्री अपने कर्तव्य को निभाएं : राज्यपाल

कोलकाता : राज्यभर में नागरिकता संशोधित कानून (कैब) के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शन और हिंसा के बीच ही राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने लोगों आगे पढ़ें »

ऊपर