महबूबा के बयान पर भड़की पीडीपी, विरोध में 3 वरिष्ठ नेताओं ने दिया इस्तीफा

पीडीपी में पड़ी फूट: 3 नेताओं का इस्तीफा, बोले – ‘देशभक्ति को चोट पहुंचाने वाले महबूबा के बयान से हमारी भावनाएं हुई आहत’

जम्मू: महबूबा मुफ्ती द्वारा राष्ट्रीय ध्वज को लेकर दिए गए बयान से आम जनता ही नहीं बल्कि उनकी पार्टी के नेता भी गुस्सा हैं। सोमवार को पीडीपी के तीन वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष के विवादित बयान से गुस्सा होकर अपना इस्तीफा दे दिया। पार्टी प्रधान को इस्तीफा देते हुए इन नेताओं ने कहा कि महबूबा मुफ्ती की इस टिप्पणी से देशभक्ति की भावना आहत हुई है।

इस्तीफा देने वालों में पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के नेता व पूर्व सांसद टीएस बाजवा, पूर्व एमएलसी वेद महाजन और हुसैन-ए-वफा शामिल हैं। पार्टी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती को लिखे पत्र में तीनों नेताओं ने कहा कि राष्ट्रीय ध्वज को लेकर उनके द्वारा की गई बयानबाजी सही नहीं है। उनके इस बयान से देशभक्त लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं।

महबूबा मुफ्ती को लगा बड़ा झटका

पीडीपी पार्टी के नेता टीएस बाजवा, हुसैन ए वफा और वेद महाजन ने इस्तीफा दे दिया है। तीनों ने कहा कि पार्टी प्रमुख के बयान और उनके कुछ फैसलों से उनकी भावनाएं आहत हुई हैं – अनुच्छेद 370 की वापसी से लेकर तिरंगे को न उठाने वाले बयान तक। उन्होंने कहा कि ये देशभक्ति को चोट पहुंचाने वाला बयान था। बता दें कि 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 के खत्म होने के बाद जम्मू कश्मीर के बड़े नेताओं को हाउस अरेस्ट पर रखा गया था। 14 महीने नजरबंदी से रिहा होने पर महबूबा मुफ्ती ने पिछले दिनों कहा था कि वे अनुच्छेद 370 फिर से लागू होने तक जम्मू-कश्मीर के अलावा कोई और झंडा नहीं उठाएंगी। जब उनका (जम्मू-कश्मीर) झंडा वापस आ जाएगा, तब तिरंगे को भी उठा लेंगी।

इस्तीफा देने वाले नेताओं की प्रतिक्रिया

इस्तीफे देने के बाद वेद महाजन ने कहा – ‘राष्ट्रीय ध्वज हमारा गौरव है। हम उनके बयान से आहत हुए हैं। आज हमने जम्मू-कश्मीर के लोगों को दिखा दिया है कि हम सेक्युलर हैं। पार्टी के कई नेता और कार्यकर्ता इस्तीफा दे सकते हैं।’ वहीं, हुसैन ए वफा का कहना है, ‘हमारे लिए देश और राष्ट्रीय ध्वज पहले आता है। इसके बाद राज्य और पॉलिटिकल पार्टियां। राष्ट्रीय ध्वज ही हमारी पहचान है।’

भाजपा कार्यकर्ताओं ने पीडीपी ऑफिस पर फहराया तिरंगा

भाजपा कार्यकर्ता ने सोमवार को श्रीनगर में लाल चौक स्थित पीडीपी ऑफिस पहुंचे और जम्मू-कश्मीर के झंडे के ऊपर ही तिरंगा चढ़ा दिया। उन्होंने भारत माता की जय के नारे भी लगाए। इससे पहले रविवार को भाजपा के छात्र संगठन एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने भी लगातार दूसरे दिन प्रदर्शन किया था। इस दौरान उन्होंने महबूबा मुफ्ती के खिलाफ नारेबाजी कर कड़े शब्दों में उनकी निंदा भी की।

महबूबा की गिरफ्तारी की अपील की : भाजपा नेता

महबूबा मुफ्ती के बयान से आहत होकर भड़की भाजपा की जम्मू-कश्मीर इकाई ने उनकी गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा, ‘धरती पर कोई ताकत नहीं है जो राज्य का झंडा फिर से फहरा सकती है या संविधान के अनुच्छेद-370 को बहाल कर सकती है।’ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रवींद्र रैना ने कहा, ‘मैं उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से अनुरोध करता हूं कि वे महबूबा मुफ्ती की टिप्पणी का संज्ञान लें और देशद्रोही कृत्य के लिए उन्हें सलाखों के पीछे पहुंचाएं।’ इसी मामले पर दिल्ली के एक वकील विनीत जिंदल ने महबूबा मुफ्ती के खिलाफ पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भारत में कोविड-19 के मामले बढ़कर 93 लाख हुए

    नयी दिल्ली : भारत में एक दिन में कोविड-19 के 43,082 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमण के मामले बढ़कर 93.09 लाख आगे पढ़ें »

राजकोट में कोविड-19 अस्पताल में लगी आग, 6 कोरोना मरीजों की मौत, 26 झुलसे

मोदी ने दुख व्यक्त किया, रूपाणी ने चार-चार लाख रुपये मुआवजा की घोषणा की अहमदाबाद: गुजरात के राजकोट शहर में गुरुवार को देर रात निर्दिष्ट कोविड-19 आगे पढ़ें »

ऊपर