ब्रेकिंगः सुशील कुमार और उनके साथी अजय गिरफ्तार

नई दिल्लीः इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि छत्रसाल स्टेडियम में जूनियर गोल्ड मेडलिस्ट पहलवान सागर राणा की हत्या मामले में फरार चल रहे ओलिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट सुशील कुमार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दिल्ली के ही मुंडका इलाके से गिरफ्तार कर लिया है। सुशील के साथ ही उनके साथी अजय को भी गिरफ्तार किया गया है। यह दोनों 4 मई को देर रात हुई घटना के बाद से फरार चल रहे थे। सुशील पर पुलिस ने एक लाख रुपए और अजय पर 50 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया था।

रोहणी कोर्ट में पेश की गई

वहीं, मंगलवार को रोहिणी कोर्ट ने सुशील की जमानत याचिका को खारिज कर दिया था। स्पेशल सेल अब इन दोनों को रोहणी कोर्ट में पेश करेगी। इसके बाद सुशील और अजय को नॉर्थ-वेस्ट जिले पुलिस को सौंप दिया जाएगा। स्पेशल सेल को इंस्पेक्टर शिव कुमार, इंस्पेक्टर करमबीर और ACP अतार सिंह लीड कर रहे थे।

पंजाब में भी छापेमारी की गई थी
स्पेशल सेल क्राइम ब्रांच के अलावा दिल्ली पुलिस की कई टीमों ने पंजाब के भटिंडा, मोहाली समेत कई राज्यों में ताबड़तोड़ छापेमारी की थी। दिल्ली में भी कई ठिकानों पर भी दिल्ली पुलिस ने छापेमारी की थी, लेकिन सुशील हाथ नहीं आए। इससे पहले बीते दिन लगातार सुशील की गिरफ्तारी की अफवाहें उड़ती रहीं।

क्या है पूरा मामला?
पुलिस के मुताबिक, 4 मई की देर रात दिल्ली के मॉडल टॉउन थाने के इलाके में सुशील और उसके साथियों ने एक फ्लैट से पहले सागर और उसके दोस्तों को हथियार बल पर किडनैप किया। फिर छत्रसाल स्टेडियम में ले जाकर उनकी पिटाई की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस को स्टेडियम का एक CCTV फुटेज भी हाथ लगा है। इसमें सुशील हॉकी स्टिक से सागर और उसके साथियों को मारते दिखे।

पुलिस के मुताबिक, छत्रसाल स्टेडियम के पार्किंग एरिया में पहलवान के दो गुटों में झड़प के दौरान फायरिंग भी हुई। इसमें 5 पहलवान जख्मी हो गए। इनमें सागर (23), सोनू (37), अमित कुमार (27) और 2 अन्य पहलवान शामिल थे।

सागर ने इलाज के दौरान दम तोड़ा
सागर ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। वह दिल्ली पुलिस में हेड कॉन्स्टेबल का बेटा था। बताया जा रहा है कि यह झगड़ा प्रॉपर्टी विवाद को लेकर हुआ था। सागर और उसके दोस्त जिस घर में रहते थे, सुशील उसे खाली करने का दबाव बना रहे थे।

घटनास्थल से डबल बैरल गन और कारतूस मिले
पुलिस को घटनास्थल से 5 गाड़ियों के अलावा एक लोडेड डबल बैरल गन और 3 जिंदा कारतूस बरामद हुई। दिल्ली पुलिस ने बताया कि वे सुशील कुमार की भूमिका की जांच कर रहे, क्योंकि उन पर गंभीर आरोप लगाए गए हैं। इसके बाद पुलिस ने सुशील और अन्य आरोपी की तलाश में कई जगहों पर छापेमारी भी की।

सामने नहीं आ रहे थे आरोपी
लुकआउट नोटिस जारी करने के बाद भी सुशील इस मामले में पुलिस का साथ देने के लिए सामने नहीं आए। इस कारण उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया गया। इतना ही नहीं दिल्ली पुलिस ने फरार चल रहे सुशील और उनके PA अजय के ऊपर इनाम की घोषणा भी की। इनके अलावा अन्य आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी किया गया।

सुशील ने आरोपों से इनकार किया था
घटना के एक दिन बाद सुशील ने मामले पर सफाई दी थी। उन्होंने कहा था कि वह हमारे साथी पहलवान नहीं थे। हमने ही पुलिस अधिकारियों को सूचित किया था कि कुछ अज्ञात लोग हमारे परिसर में घुसकर झगड़ा कर रहे हैं। सुशील ने 2012 के लंदन ओलिंपिक में सिल्वर और बीजिंग ओलिंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता था।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

साल्टलेक सेक्टर-5 स्टेशन का भी निजीकरण

अब बंधन बैंक का लगा स्टेशन पर नाम कोलकाताः मेट्रो रेलवे की ओर से कई स्टेशनों को निजीकरण किए जाने की पहल पहले ही गई है। आगे पढ़ें »

महिला को डायन करार देकर पीटने का आरोप

मिदनापुर: पश्चिम मिदनापुर जिले के जंगलमहल इलाके में एक बार फिर से एक महिला को डायन करार देते हुए उसे बुरी तरह से पीटे जाने आगे पढ़ें »

ऊपर