निकिता हत्याकांडः बड़ा खुलासा- आरोपी ने खोले चौंकाने वाले राज

बल्लभगढ़ः फरीदाबाद के बीकॉम ऑनर्स अंतिम वर्ष की छात्रा निकिता की हत्या मामले में आरोपी तौसीफ ने पुलिस रिमांड के दौरान कई राज उगले हैं। उसने पुलिस को बताया कि पिछले दो साल से उसका निकिता के साथ कोई संपर्क नहीं था। साल 2018 में अपहरण कांड के बाद से निकिता ने उससे दूरियां बना ली थी। उसने काफी कोशिश की उसका मोबाइल नंबर तलाशने की, लेकिन वह कामयाब नहीं हुआ। गुरुग्राम यूनिवर्सिटी में उसने फिजियोथेरपिस्ट की पढ़ाई शुरू कर दी। इसके बावजूद उसे अपनी और परिवार की बेइज्जती की बात हमेशा दिल मे चुभती रहती थी। उसे पता लगा कि निकिता की पढ़ाई पूरी होने वाली है और अब परिवार वाले उसकी शादी कर देंगे।
लेना चाहता था बेइज्जती का बदला
पुलिस पूछताछ में तौसीफ ने बताया कि वह चाहता था कि वह बंदूक के बल पर निकिता का अपहरण करेगा और उससे शादी कर अपनी व परिवार की बेइज्जती का बदला लेगा।
जेल भेजा गया
आपको बता दें कि मुख्य आरोपी तौसीफ का गुरुवार को पुलिस रिमांड पूरा हो गया। पुलिस ने आरोपी की वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से न्यायालय में पेशी की। न्यायालय ने सुनवाई के बाद उसे जेल भेज दिया गया। हालांकि पुलिस ने उसे एक दिन की रिमांड अवधि और बढ़ाने की मांग की थी। वहीं, रेहान का रिमांड आज यानी शुक्रवार को पूरा होगा। तौसीफ के साथ ही उसे हथियार मुहैया कराने वाला अजरुद्दीन को भी जेल भेज दिया गया है।
क्या है मामला?
बता दें कि 26 अक्तूबर को सोहना रोड स्थित अपना घर सोसायटी में रहने वाली बीकॉम अंतिम वर्ष की छात्रा निकिता तोमर की तौसीफ नामक युवक ने उस समय गोली मारकर हत्या कर दी थी जब वह बल्लभगढ़ स्थित अग्रवाल कॉलेज में परीक्षा देने पहुंची थी। हत्यारोपी तौसीफ और उसके साथ रेहान ने पहले छात्रा को जबरन कार में डालना चाहा था। इस दौरान छात्रा के साथ मौजूद उसकी सहेली ने भी हत्यारों का विरोध किया था। इसी दौरान तौसीफ ने निकिता को गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

हाईकोर्ट में याचिका निपटने तक अर्नब गोस्वामी की जमानत जारी रहेगी- सुप्रीम कोर्ट

-पुलिस एफआईआर में लगाए गए आरोप नहीं हुए साबित नयी दिल्ली : शीर्ष न्यायालय ने शुक्रवार को आत्महत्या के लिए कथित तौर पर उकसाने के 2018 आगे पढ़ें »

लालू को आज भी नहीं मिली जमानत, अब इस दिन होगी सुनवाई

पटनाः राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को जमानत के लिए अभी और इंतजार करना होगा। अब झारखंड हाईकोर्ट में 11 दिसंबर को आगे पढ़ें »

ऊपर