अलगाववाद को बढ़ावा देने वाले टेरर फंडिंग केस में एनआईए की बड़ी छापेमारी

– दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व प्रमुख के 9 ठिकानों की तलाशी

जम्मू: राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर और दिल्ली में नौ स्थानों पर छापेमारी आज गुरुवार को भी जारी है। इससे पहले एनआईए ने बुधवार को छापेमारी की थी। इसमें छह एनजीओ और नौ अन्य जगहें शामिल हैं। सीमा पार से संचालित किए गए टेरर फंडिंग की नकेल कसने के लिए यह छापामारी की गई है।

जम्मू कश्मीर और दिल्ली में कहां कहां हुई छापेमारी
एनआईए ने कश्‍मीर में कई ठिकानों पर एक साथ छापे मारे। एनआईए की टीम ने आज सुबह मोहम्मद जफर अकबर भट्ट के मकान पर छापा डाला है। जफर बट जम्मू कश्मीर साल्वेशन मूवमेंट के चेयरमैन है। जफर बट अलगाववादी सियासत में सक्रिय होने से पहले हिज्बुल मुजाहिदीन के उन कमांडरों में से एक थे जिन्होंने वर्ष 2000 के दौरान केंद्र सरकार के साथ बातचीत में हिस्सा लिया था। बाद में सलाउद्दीन के साथ मतभेद पैदा होने पर इन लोगों ने बंदूक छोड़ दी और सियासत में शामिल हो गए थे। एनआईए की टीम ने सुबह कश्मीर में अलग-अलग जगहों पर एक साथ छापे मारे हैं। इनमें श्रीनगर और बड़गाम के इलाके शामिल हैं।

सीमा पार से होने वाली टेरर फंडिंग से खतरा
सूत्रों का कहना है कि अब तक हुई जांच में टेरर फंडिंग मामले से संबंधित सुरागों के आधार पर यह छापेमारी की गई है। ये छापे स्‍थानीय अखबार ग्रेटर कश्‍मीर ट्रस्‍ट के कार्यालय, सोनवर में खुर्रम परवेज और एनजीओ एथ्राउट के एचबी हाउस बोट नेहरू पार्क इलाके में स्थित कार्यालय और आवास पर मारे गए। छापे के दौरान किसी को भी बाहर जाने की इजाजत नहीं दी गई। एनआईए काफी समय से सीमा पार से होने वाली टेरर फंडिंग मामले की जांच में लगी हुई है। अभी कुछ दिन पहले एक व्यक्ति को कश्मीर से पकड़ा गया था। सूत्रों का कहना है कि उसकी पूछताछ के बाद नई सुरागों का पता चला जिसके बाद छापेमारी तेज कर दी गई है।

अलगाववादी गतिविधियों को बढ़ावा दे रहा टेरर फंडिंग
जिन छह एनजीओ पर एनआईए ने छापेमारी की है वो हैं – फलह-ए-आम ट्रस्ट, चैरिटी अलायंस, ह्यूमन वेलफेयर फाउंडेशन, जेके यतीम फाउंडेशन, साल्वेशन मूवमेंट और जम्मू कश्मीर वॉइस ऑफ विक्टिम्स। इनमें से चैरिटी अलायंस और ह्यूमन वेलफेयर फाउंडेशन दिल्ली में स्थित हैं, वहीं बाकी सभी जम्मू और कश्मीर के श्रीनगर से काम करते हैं। दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व प्रमुख ज़फरुल-इस्लाम खान, चैरिटी अलायंस के अध्यक्ष हैं और मिली गज़ट अखबार के संस्थापक और संपादक हैं।

बता दें कि जांच एजेंसी ने टेरर फंडिंग केस में बुधवार को श्रीनगर में 10 जगहों पर और बेंगलुरु में एक जगह पर छापेमारी की थी। इस केस में एजेंसी को शक है कि भारत में कुछ एनजीओ काम कर रहे हैं जो जम्मू-कश्मीर में अलगाववादी गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए देश-विदेश से फंड इकट्ठा कर रहे हैं। सूत्रों ने बताया है कि छापेमारी के दौरान एजेंसी ने कई संदिग्ध दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जब्त किए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पूर्वी उत्तरप्रदेश में भी फिल्म सिटी बनाने की संभावना की तलाश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के नोयडा में 10 हजार एकड़ में विश्वस्तरीय फिल्म सिटी बनाने की घोषणा के बाद अब उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ की आगे पढ़ें »

चीन के कोयला खदान में कार्बन मोनोक्साइड का स्तर बढ़ने से 18 मजूदर मरे

बीजिंग: चीन के एक कोयला खदान में कार्बन मोनोक्साइड का स्तर अधिक हो जाने की वजह से 18 मजदूरों की मौत हो गयी। यह घटना आगे पढ़ें »

ऊपर