नागालैंड के छात्र संगठन ने नागरिक संशोधन‌ बिल के विरोध में किया प्रदर्शन

कोहिमा : नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ नागालैंड में राजभवन के बाहर नगा स्टूडेंट्स फेडरेशन (एनएसएफ) के सदस्यों ने मंगलवार को प्रदर्शन किया। पूर्व एनईएसओ महासचिव एनएसएन लोथा के साथ विभिन्न कॉलेजों के स्वयंसेवियों ने यहां करीब डेढ़ घंटे तक विरोध प्रदर्शन जारी रखा। विधेयक के खिलाफ नारे लगाते हुए राज्य के छात्र संगठन एनएसएफ ने इसे जल्द से जल्द वापस लेने की मांग की है। बता दें कि पूर्वोत्तर में बंद का ऐलान करने वाले एनईएसओ ने हार्नबिल उत्सव के चलते राज्य को इस कार्यक्रम से बाहर रखा था। इसके बावजूद यह प्रदर्शन किया गया।

शरण देने के बजाय करें नागरिकों की रक्षा

एनएसएफ अध्यक्ष निनोटो अवोमी कहना है कि, ‘‘ हमें बताया गया था कि नागरिकता संशोधन विधेयक के दायरे से नगालैंड को बाहर कर दिया गया है लेकिन राज्य, अवैध प्रवास को नियंत्रित नहीं कर सका। जबकि आईएलपी और अन्य प्रावधान राज्य में मौजूद हैं।’’

उन्होंने कहा,‘‘ मेरा केंद्र सरकार से अनुरोध है कि अवैध प्रवासियों को शरण देने के बजाय सरकार इस क्षेत्र की भावनाओं का सम्मान करे और यहां के नागरिकों की सुरक्षा करे।’’

शरणार्थियों को मिल सकेगी भारतीय नागरिकता

दरअसल पूर्वोत्तर के छात्रों के सबसे बड़े संगठन नॉर्थ ईस्ट स्टूडेंट्स ऑर्गनाइजेशन (एनईएसओ) ने नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में क्षेत्र में बंद का ऐलान किया था। इस विधेयक के तहत पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भारत आए शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता प्रदान किए जाने का प्रावधान है।

हाेर्नबिल उत्सव

उल्लेखनीय है कि होर्नबिल नागालैंड का विशेष उत्सव है जो कि प्रतिवर्ष एक से दस दिसंबर के बीच मनाया जाता है। इस उत्सव में राज्य की संस्कृति, कला, हस्तशिल्प और व्यंजन का प्रदर्शन किया जाता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर