मोदी : चेन्‍नई कनेक्ट से भारत और चीन का नया दौर होगा शुरु

Xi Jinping

चेन्‍नई : चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अपने दो दिवसीय भारत दौरे के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से शनिवार को कोवलम स्थित ताज फिशरमैन होटल के कोव रिसॉर्ट में दूसरी अनौपचारिक मुलाकात की। दोनों राष्ट्रनेताओं ने लगभग एक घंटे तक आमने-सामने बैठकर बात करते हुए इस नए रिश्ते को चेन्‍नई कनेक्ट का नाम दिया। कई मुद्दों पर प्रतिनिधि स्तर पर बातचीत हुई जिस दौरान विदेश मंत्री एस जयशंकर और एनएसए अजीत डोभाल भी उपस्थित थे। मुलाकात के दौरान मोदी और जिनपिंग ने होटल में हैंडलूम कलाकृतियों की प्रदर्शनी को देखा। मोदी ने इस खास मेहमान को उपहार में सिल्क का शॉल दिया जिसमें मोदी की तस्वीर छपी हुई है। वुहान बैठक पर मोदी ने चर्चा करते हुए कहा कि उसकी भावनाओं के अनुसार उत्पन हुए मतभेदों को विवाद का कारण नहीं बनने दिया जाएगा। दोनों देश एक दूसरे ‌की चिंताओं और समस्याओं का ख्याल रखेंगे।

व्यापार और आतंकवाद पर प्रकट की चिंता

मोदी और शी जिनपिंग ने व्यापार और आतंकवाद के साथ कई अंतरराष्ट्रीय मामलों पर चर्चा की। मोदी ने कहा कि भारत और चीन के संबंधों के बीच सांस्कृतिक और व्यापारिक संबंधो को सशक्त बनाने में चेन्‍नई का काफी महत्वपूर्ण योगदान रहा है। पिछले 2000 वर्षो से मजबूत देशों की सूची में भारत और चीन का नाम लिया जाता है। वुहान के अनौपचारिक बैठक से दोनों देशों के बीच कूटनीतिक लेन-देन बढ़ा है और हम दोनों एक-दूसरे की समस्याओं को लेकर संवेदनशील है। चीन और भारत के संबंध पूरी दुनिया में स्थिरता का प्रतीक बनेंगे जो हमारे लिए बड़ी कामयाबी है। चेन्नई समिट के दौरान हमारे बीच द्विपक्षीय और वैश्विक विषयों पर चर्चा हुई और इसकी सहायता से चीन और भारत का एक नया दौर शुरु होगा। विदेश सचिव विजय गोखले ने राष्ट्रनेताओं के मुलाकात की जानकारी देते हुए बताया कि जिनपिंग ने व्यापार और महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर मोदी के साथ बातचीत की इच्छा प्रकट की है। दोनों ने आतंकवाद और कट्‌टरपंथ को बड़ी चुनौती बताते हुए इससे लड़ने की आवश्यकता पर भी बल दिया है।

जिनपिंग मेहमान-नवाजी से बेहद प्रसन्न
चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा कि भारत में जिस तरह से उनका स्वागत किया गया उससे वह काफी प्रसन्न है। यह अनुभव उनके लिए यादगार रहेगा और वह मेहमाननवाजी से अभिभूत है। हालांकि चीनी मीडिया ने पहले भारत और चीन के बारे में काफी कुछ लिखा है पर वुहान बैठक में मिली सफलता का श्रेय शी ने मोदी को दिया। उन्होंने कहा कि चीन और भारत की गिनती विश्व के उन देशों में की जाती हैं जिनकी आबादी एक अरब से अधिक हैं। दोनों अहम पड़ोसी हैं और हमारे बीच द्विपक्षीय मुद्दों पर बातचीत हुई।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Rain of currency

आधे घंटे तक हुई नोटों की बारिश, लूटने के लिए लोगों में होड़

कोलकाता : महानगर में डलहौजी इलाके के बेंटिक स्ट्रीट मेें बुधवार की दोपहर अचानक एक कमर्शियल बिल्डिंग से नोटों की बारिश होने लगी। दरअसल, हुआ आगे पढ़ें »

Hemant Biswa Sarma

असम सरकार ने मोदी सरकार से एनआरसी बिल रद्द करने अपील की

नई दिल्ली : असम सरकार ने केंद्र सरकार से हाल में जारी किए गए नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) बिल को रद्द करने की अपील आगे पढ़ें »

ऊपर