मयंक 463 किमी एंडुरोमन ट्रायथलन रेस जीतने वाले प्रथम एशियाई एथलीट बने

mayank vaidya

नई दिल्ली : भारतीय एथलीट मयंक वैद ने दुनिया की सबसे कठिन रेस एंडुरोमन ट्रायथलन में जीत हासिल की। मयंक ने 463 किलोमीटर का रेस महज 50 घंटे 24 मिनट में पूरा किया। बता दें कि इससे पहले यह रेस बेल्जियम के जूलियन डेनेयर ने 52 घंटे 30 मिनट में पूरा किया था। इस रेस में जीत का पताका लहराकर मयंक देश के पहले और दुनिया के 44वें व्यक्ति बन गए हैं। मालूम हाे कि इस प्रतिस्पर्धा का अयोजन इंग्लैण्ड में किया गया था।

अब तक 44 लोगों ने फहराया है जीत का परचम

एक साक्षात्कार में मंयक ने कहा कि यह दुनिया की सबसे पॉइंट टू पॉइंट ट्रायथलन रेस है। दुनिया में अब तक इसे सिर्फ 44 लोग ही जीत सके हैं, जबकि इससे ज्यादा लोग माउंट एवरेस्ट पर चढ़ चुके हैं। यह वास्तव में दुनिया की सबसे कठिन और क्रू ट्रायथलन है।

ट्रायथलन दुनिया की सबसे कठिन रेस

बता दें कि भारत के साथ ही मयंक एशिया के पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने इस प्रतिस्पर्धा को बिना किसी के सहयोग के जीता है। जानकारी दें कि ट्रायथलन दुनिया की सबसे कठिन प्रतिस्पर्धा है। इसमें दौड़कर, तैरकर और साइकल चलाकर इंग्लैंड से फ्रांस तक की यात्रा करनी होती है। प्रतिस्पर्धा की शुरुआत लंदन के मार्बल आर्च से डोवर के बीच 140 किलोमीटर की दौड़ से होती है। इसके बाद कम से कम 33.8 किमी तैरकर चैनल पार करना पड़ता है। इन दोनों चरणों के पूरा होने के बाद प्रतियोगियों को 289.7 किमी साइकल चलाकर फ्रांस के शहर पेरिस में पहुंचना होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

‘अम्फान’ से सबक लेकर आधारभूत संरचना को बेहतर करें, आपदा से निपटने पर ध्यान दें : एनडीआरएफ प्रमुख

कोलकाता : एनडीआरएफ के प्रमुख एस एन प्रधान ने कहा है कि पश्चिम बंगाल और ओडिशा के कुछ हिस्सों में तबाही मचाने वाले चक्रवात ‘अम्फान’ आगे पढ़ें »

रियल एस्टेट सेक्टर को बड़े पैकेज की जरूरत, पीएम को पत्र लिखकर रखी मांगें

नई दिल्ली : कोरोना महामारी से चरमराई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए भारत सरकार और आरबीआई ने औद्योगिक सेक्टर्स के लिए कई अहम् आगे पढ़ें »

ऊपर