राज्य में लगा लॉकडाउन तो आसमान में की शादी

मदुरै: जब देश में कोरोना महामारी से आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है तो ऐसे समय में सरकारों ने लॉकडाउन जैसे विभिन्न कठोर प्रतिबंध लगाए हुए हैं। शादी के इस सीजन में लोगों को कई तरह की दिक्कतों का सामना भी करना पड़ रहा है, ऐसे में कुछ लोग अपने परिजन की शादी के लिए विभिन्न तरह के रास्ते निकाल रहे हैं और ऐसा ही एक मामला तमिलनाडु के मदुरै से आया है। दरअसल पूरे तमिलनाडु में लॉकडाउन लगा हुआ है और ऐसे में एक कपल ने अपनी शादी को यादगार बनाने का फैसला किया।

161 रिश्तेदार भी रहे मौजूद

इस कपल ने आसमान में शादी करने का फैसला किया और 161 रिश्तेदारों के साथ धरती की जगह आसमान में ब्याह रचा लिया। चार्टर्ड विमान ने मदुरै मीनाक्षी अम्मन मंदिर के ऊपर उड़ान भरी तो दोनों ने शादी रचा ली। चार्टड प्लेन में हुई इस अनूठी शादी की चर्चा हर तरफ हो रही है। आपको बता दें कि तमिलनाडु में कोरोना की वजह से हालात काफी बिगड़े हुए हैं ऐसे में शादी समारोह में 50 से ज्यादा लोगों को जाने की अनुमति नहीं है।

 


आसमान में हुई शादी
सूत्रों के मुताबिक “रविवार सुबह सात बजे’ शादी की उड़ान’ ने  मदुरै अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से उड़ान भरी। उड़ान दो घंटे की थी और जब विमान मीनाक्षी अम्मन मंदिर के ऊपर उड़ रहा था, तो युगल शादी के बंधन में बंध गए। समारोह की तस्वीरों से पता चलता है कि जो लोग इस हवाई विवाह में शामिल हुए थे, उन्होंने ठीक तरह से मास्क भी नहीं पहना था और ना ही कोई सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहा था।”

वायरल तस्वीरों पर लोगों की प्रतिक्रिया
शादी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रही है और लोग तरह-तरह से प्रतिक्रिया दे रहे  कुछ लोगों का मानना है कि दूसरी लहर के समय इतने भव्य आयोजन की कोई आवश्यकता नहीं थी। पुलिस अधीक्षक सुजीत कुमार के मुताबिक, उन्होंने अभी तक इस पर फैसला नहीं लिया है कि शहर या ग्रामीण सीमा में मामला दर्ज किया जाना चाहिए और यह “अजीब उल्लंघन” है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

जवां दिखने के लिए लाइफस्टाइल में करें ये बदलाव

कोलकाता : हम सभी जवां दिखना चाहते हैं। लेकिन बढ़ती उम्र के साथ बुढ़ापा आना एक सामान्य प्रकिया है। लेकिन आज कल की भागदौड़, अनहेल्दी आगे पढ़ें »

उत्तर बंगाल के जातीय संगठनों ने भाजपा सांसद के बयान से खुद को किया अलग

कोलकाता : पिछले कई दशकों में उत्तर बंगाल को पृथक राज्य बनाने को लेकर आंदोलन का नेतृत्व करने वाले कई जातीय समूह ने क्षेत्र के आगे पढ़ें »

ऊपर