वैक्सीन के डर से पत्नी का आधार कार्ड लेकर पेड़ पर चढ़ा पति

नई दिल्लीः कोरोना से जारी लड़ाई के बीच सरकार की यह कोशिश है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को जल्द से जल्द वैक्सीन लगा दी जाए। लेकिन अभी भी वैक्सीन को लेकर लोगों के मन का भ्रम पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है। मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले में वैक्सीन लगवाने के डर से एक युवक पेड़ पर चढ़ गया। दरअसल जिले के पाटन कला गांव में स्वास्थ्य विभाग की एक टीम कोविड वैक्सीनेशन कैंप के लिए पहुंची थी। कैंप में वैक्सीन लगवाने के लिए गांव के कई लोग जमा हुए थे। लेकिन गांव का रहने वाले कंवरलाल वैक्सीन लगवाने के लिए तैयार नहीं था। इलाके के लोगों ने उसे कई बार समझाया लेकिन वो टीका नहीं लगवाने की जिद पर अड़ा रहा। इसके बाद किसी तरह गांव वालों ने उसकी पत्नी को वैक्सीन लगवाने के लिए तैयार किया और उसे लेकर टीकाकरण केंद्र पर पहुंच गए। इधर कंवरलाल को जब इस बात की जानकारी हुई तब वो अपनी पत्नी का आधार कार्ड लेकर पेड़ के ऊपर चढ़ गया। कंवरलाल के पेड़ पर चढ़ने के बाद वहां अजीब स्थिति खड़ी हो गई। लोगों ने कई बार कंवरलाल को पेड़ से नीचे उतरने के लिए कहा लेकिन कंवरलाल नीचे नहीं आया। गांव में वैक्सीनेशन कैंप के खत्म होने के बाद ही कंवरलाल पेड़ से नीचे उतरा। इधर इस घटना की सूचना मिलने के बाद खूंजर ब्लॉक के मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर राजीव गांव में पहुंचे। कंवरलाल की काफी देर तक काउंसिलिंग की गई। जिसके बाद उसके मन में वैक्सीन को लेकर बैठा भ्रम दूर हुआ।

हालांकि, तब तक वहां वैक्सीनेशन कैंप खत्म हो चुका था। लिहाजा अब कंवरलाल और उसकी पत्नी को गांव में दोबारा वैक्सीनेशन कैंप लगने के बाद कोरोना से लड़ने वाली वैक्सीन लगाई जाएगी। बताया जा रहा है कि युवक कंवरलाल के मन में डर बैठा था कि टीका लगने से तेज बुखार, बदन दर्द और जुकाम होता है और बाद में परेशानी होती है। इसी वजह से उसने खुद और अपनी पत्नी को टीका नहीं लेने दिया।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सोने की स्थिति का सेहत पर पड़ता है प्रभाव, ऐसे सोने से ठीक हो सकते हैं खर्राटे और पीठ का दर्द

कोलकाता : शरीर को स्वस्थ और सक्रिय बनाए रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में नींद लेना बेहद आवश्यक माना जाता है। नींद पूरी न होना आगे पढ़ें »

ऊपर