विश्व शाकाहारी दिवस : यह सच्चाई जान हैरान रह जाएंगे आप !

नई दिल्लीः आज के दिन यानी 1 अक्टूबर को पूरी दुनिया में विश्व शाकाहारी दिवस मनाया जा रहा है। इसका मकसद शाकाहारी खाने को बढ़ावा देना और लोगों को इसके फायदे के प्रति जागरूक करना है। शाकाहारी खाना बहुत सेहतमंद होता है। शाकाहारी खाना वजन कम करने के अलावा, शुगर कंट्रोल करता है, दिल की बीमारियों से बचाता है और कुछ तरह के कैंसर के खतरे को भी दूर करता है। वायरस के संक्रमण से बचना है तो शाकाहारी भोजन ही सही विकल्प है क्यों‌कि स्वाइन फ्लू से लेकर कोरोना का संक्रमण फैलाने तक में जानवर एक बड़ी कड़ी साबित हुए हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन कहता है, पिछले 50 सालों में 70 फीसदी वैश्विक बीमारियां जानवरों के जरिए फैली हैं। हालांकि शाकाहारी खाने से हर तरह के पोषक तत्व लेना आसान काम नहीं है।

पहले जान लेते हैं शाकाहारी आहार के बारे में मिथक

उबाऊ होता है शाकाहारी भोजन आपके व्यायाम को प्रभावित करता हैपर्याप्त प्रोटीन नहीं होतायह आहार कार्ब्स से भरा हुआ हैशाकाहारी खाने को लेकर कुछ लोग कई तरह की गलतफहमियां भी पाल लेते हैं और इसके चक्कर में वो कुछ ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जिसका असर उनकी सेहत पर पड़ता है। आइए जानते हैं इसके बारे में।

नेशनल हेल्थ पोर्टल के अनुसार, शाकाहारी लोग भोजन का उतना ही आनंद लेते हैं जितना कोई और। आपको बस विभिन्न खाद्य पदार्थों के साथ प्रयोग करने की जरूरत है और भोजन को स्वादिष्ट और पौष्टिक बनाने के लिए तैयारी करनी चाहिए। एक अच्छी तरह से नियोजित शाकाहारी भोजन आपके स्वाद कलियों को स्वाद देने के साथ-साथ विविधता भी जोड़ सकता है।

फिटनेस फ्रीक अक्सर मानते हैं कि शाकाहारी भोजन का पालन करने से कमजोरी हो सकती है और मांसपेशियों के विकास में मदद नहीं मिलेगी, लेकिन पर्याप्त पोषक तत्वों को डाइट में शामिल करने से आप अपने वर्कआउट को कुशलता से पूरा कर सकते हैं। प्रोटीन के पर्याप्त स्रोत हैं जिन्हें आप अपने आहार में शामिल कर सकते हैं। इसलिए ये भी मिथ्स ही है।

यह एक मिथक है कि शाकाहारी आहार में पर्याप्त प्रोटीन नहीं होता है। प्रोटीन से भरे कई शाकाहारी खाद्य पदार्थ हैं लेकिन कई इन स्रोतों को नहीं जानते हैं। प्रोटीन के कुछ सबसे अच्छे स्रोत जो आपके शाकाहारी भोजन का हिस्सा हो सकते हैं वे हैं टोफू, पनीर, दाल, छोले, क्विनोआ, सोया, अखरोट और बीज। इसलिए आज से कोई कहे कि वेजिटेरियन डाइट में प्रोटीन की कमी है तो उस पर विश्वास न करें।

आपका शाकाहारी भोजन कम कार्ब भी हो सकता है। कुछ कम कार्ब शाकाहारी खाद्य पदार्थ डेयरी, जामुन, नट, बीज, फलियां, चिया बीज, सब्जियां जैसे टमाटर, प्याज, बैंगन, बेल मिर्च और ब्रोकोली हैं। आप अपने आहार में फिट होने वाले सभी पोषक तत्वों का संतुलन सुनिश्चित करने के लिए विशेषज्ञ की मदद ले सकते हैं। ऐसे में ये मिथ्स है कि वेजिटेरियन डाइट में ज्यादा कार्ब होता है।

शाकाहारी खाने को सबसे स्वस्थ मानने की गलती

शाकाहारी लोग अपने आप ही वेज खाने को सबसे सेहतमंद मान लेते हैं, जबकि ये जरूरी नहीं है। उदाहरण के तौर पर शाकाहारियों में बादाम का दूध बहुत लोकप्रिय है। इस दूध में कैलोरी कम होती है और कई जरूरी विटामिन और मिनरल्स पाए जाते हैं लेकिन फिर भी ये गाय के दूध से ज्यादा सेहतमंद नहीं होता है। इसी तरह वेज बर्गर और नगेट्स जैसे प्रोसेस्ड वेज फूड भी नॉनवेज की तुलना में स्वस्थ नहीं माने जाते हैं। शाकाहारी होने के बावजूद कई खाद्य पदार्थ कैलोरी में ज्यादा होते हैं और इनमें प्रोटीन, फाइबर भी कम पाया जाता है।

नहीं होता पर्याप्त विटामिन बी12

शरीर में खून बनाने के लिए विटामिन बी12 अत्यंत जरूरी होता है। ये विटामिन ज्यादातर मांसहरी पदार्थ में पाया जाता है और शाकाहारी लोगों में अक्सर इस विटामिन की कमी पाई जाती है। विटामिन बी 12 की कमी से थकान और यादाश्त से जुड़ी कई समस्या हो सकती है। हालांकि, शाकाहारी खाने में भी कुछ ऐसी चीजें है जिनमें विटामिन बी12 भरपूर मात्रा में पाया जाता है। अपने खाने में फोर्टिफाइड फूड्स, दही, ओटमील और सोया प्रोडक्ट शामिल करें। इसके अलावा जरूरत पड़ने पर आप विटामिन बी12 के सप्लीमेंट्स भी ले सकते हैं।

चीज को सेहतमंद मानना

 शाकाहारी लोग सैंडविच, सलाद, पास्ता या फिर कई दूसरी चीजों में चीज का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं। कई लोगों को गलतफहमी होती है कि मीट की जगह चीज ज्यादा हेल्दी होता है। हालांकि चीज में प्रोटीन और मिनरल्स पाए जाते हैं पर फिर भी ये मीट में पाए जाने वाले पोषक तत्वों की कमी नहीं पूरी कर सकता। मीट की तुलना में चीज में कम प्रोटीन पाया जाता है और इसमें कैलोरी भी ज्यादा होती है। चीज की जगह आप अपनी डाइट में प्लांट फूड शामिल करें।

शरीर में कम कैलोरी सही नहीं

ज्यादातर शाकाहारी खाने में कैलोरी कम पाई जाती है। लोगों को लगता है कि शरीर के लिए कम कैलोरी सही है लेकिन ऐसा नहीं है। शरीर में एक संतुलित मात्रा में कैलोरी का होना जरूरी है। मांसाहारी लोगों की तुलना में शाकाहारियों के शरीर में बहुत कम कैलोरी होती है। कैलोरी की कमी से शरीर में थकान और कमजोरी बनी रहती है। जरूरत से ज्यादा कम कैलोरी की वजह से शरीर में कई तरह के साइड इफेक्ट दिखने लगते हैं।

ज्यादा पानी नहीं पीते

पर्याप्त मात्रा में पानी पीना हर किसी के लिए जरूरी है खासतौर से शाकाहारियों के लिए। शाकाहारी लोगों की डाइट में फाइबर की मात्रा अधिक होती है। फाइबर ज्यादा खाने वाले लोगों को एक निश्चित मात्रा में पानी पीना जरूरी है क्योंकि पानी फाइबर को पचाने में मदद करता है। पानी की कमी से शाकाहारी लोगों को गैस और कब्ज जैसी समस्या भी हो सकती है।

खाने में आयरन की कमी

मीट में आयरन समेत सभी जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं। मीट में हीम आयरन होता है जो लोगों के शरीर में आसानी से पच जाता है जबकि शाकाहारी खाना खाने वाले लोगों के साथ ऐसा नहीं है। प्लांट बेस्ड खाने में नॉन हीम आयरन पाया जाता है जो शरीर में आसानी से अवशोषित नहीं होता है और जिसकी वजह से आयरन की कमी हो जाती है। आयरन की कमी से सांस लेने में दिक्कत और थकावट जैसी समस्या आ सकती है। आयरन के लिए अपनी डाइट में दाल, बीन्स, नट्स ओट्स और हरी सब्जियां शामिल करें।

पर्याप्त मात्रा में कैल्शियम ना लेना

हड्डियों और दांतों के लिए कैल्शियम बहुत जरूरी है। कैल्शियम से शरीर का पूरा पुर्जा सही तरीके से काम करता है। कैल्शियम की कमी से ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या हो सकती है। डेयरी प्रोडक्ट में कैल्शिमय भरपूर मात्रा में होता है, जो लोग डेयरी प्रोडक्ट नहीं लेते हैं उनके शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाती है। अगर आप दूध नहीं पीना चाहते तो अपनी डाइट में ब्रोकोली, बादाम, संतरा और अंजीर शामिल करें।

मील प्लान को नजरअंदाज करना

आप घर का खाना खा रहे हों या बाहर का लेकिन अगर आप शाकाहारी खाना खा रहें हैं तो उसके लिए मील प्लानिंग जरूरी है। रेस्टोरेंट्स में शाकाहारियों के लिए बहुत सीमित विकल्प होते हैं। ऐसे में खाने के बारे में पहले से योजना बनाकर चलने से क्या खाना है, ये निर्णय लेने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा हर हफ्ते किसी नए शाकाहारी खाने की रेसेपी ढूंढ कर उसे खुद पकाने की कोशिश करें।

शाकाहारी भोजन के फायदे

– शाकाहारी भोजन हृदय रोग और कैंसर के खतरे को कम करता है। शुद्ध शाकाहारी भोजन करने वाले लोगों में हृदय से संबंधित रोग होने की संभावना कम 30% कम होती है।

– शाकाहारी खाना हल्का होता है। यह अन्य भोजनों की तुलना में जल्दी पच जाता है। शाकाहारी भोजन मस्तिष्क को सचेत रखते हुए उसे बुद्धिमान बनाता है। इस तरह के भोजन करने से व्यक्ति तरोताजा महसूस करता है।

– शाकाहारी खाना खाने वाले लोगों को हाई ब्लड प्रेशर का खतरा काफी कम होता है, क्योंकि ऐसे भोजन में कॉम्लेक्स क्राबोहाइड्रेट की मात्रा ज्यादा होती है और इसके साथ ही शारीरिक स्थूलता भी कम होती है।

– शाकाहारी आहार में साबुत अनाज, मेवा, फल एवं सब्जियां शामिल हैं, जो कि रेशा, एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन के साथ-साथ आवश्यक खनिज पदार्थों की पूर्ति भी करते हैं।

– शाकाहारी भोजन से वजन कम करने में मदद मिलती है। अगर आप रोजाना दिन में 3-4 बार थोड़ा थोड़ा फल,सब्जियां, अनाज और सूखे मेवे का संतुलित मात्रा में सेवन करते हैं, तो इससे आप कुछ ही दिनों में अपने बढ़ते वजन को नियंत्रित करते हुए कम कर सकते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

उत्तर प्रदेश के गांवों में अनाज भंडारण के लिए बनेंगे 5000 गोदाम

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार किसानों को फसल सुरक्षित रखने और उसकी अच्छी कीमत दिलाने के लिये गांवों में 5000 भण्डारण गोदाम आगे पढ़ें »

गांजे की खेती वाले कमेंट पर भड़कीं कंगना रनौत, उद्धव ठाकरे पर किया पलटवार

  मुंबई: बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के गांजे की खेता वाले कमेंट पर पलटवार करते हुए कहा कि जनसेवक होकर आप इस तरह आगे पढ़ें »

ऊपर