कोविड-19: कब खत्म होगा कोरोना?

नई दिल्ली : कोरोना का प्रकोप पूरी दुनिया में फैला हुआ है। भारत की बात करें तो इस महामारी के कारण यहां स्वास्थ्य व्यवस्था से लेकर अर्थव्यवस्था तक डगमगा गई है। ऐसे में सवाल भी उठा है कि कोरोना के केस अचानक कैसे तेजी से बढ़ गए? विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) के सचिव,आशुतोष शर्मा ने क्या कहा.
– क्या वैज्ञानिक समुदाय और डीएसटी ने अनुमान लगाया है कि भारत अभी किस तरह की कोविड-19 स्थिति का सामना कर रहा है?
कोरोना का वायरस बार-बार अपना स्वरूप बदल रहा है। इसके म्यूटेशन के कारण भारत में स्थिति बदल गई है। नए वैरिएंट्स के कारण देश में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालांकि, इस पर शोध अभी जारी है।
– किस वजह से तेजी से फैल गया वायरस?
दिल्ली में जनवरी 15 से जनवरी 23 के बीच पांचवां सीरोलॉजिकल सर्वे हुआ था, जिसमें 56 फीसदी लोगों में एंटीबॉडी मिला। 28 हजार पॉजिटिव लोगों का यह सैंपल था। यह मामले घटने के संकेत थे, लेकिन म्यूटेंट वायरस की वजह से मामले तेजी से बढ़ गए।
-कोरोना की दूसरी लहर कब तक जारी रहेगी?
इसे लेकर कई तरीकों से अनुमान लगाया जा रहा है। उदाहरण के तौर यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन, अशोका यूनिवर्सिटी की रिपोर्ट जो संकेत देते हैं कि पीक केस रोजाना के हिसाब से 8 लाख, 5 से 6 लाख और 4 लाख मई की शुरुआत से अंत तक सामने आएंगे। यह जो मॉडल है वो संकेत दे रहा है कि पीक के दो महीने बाद केस वहीं पहुंच जाएंगे जो पहली लहर के समाप्त होने के वक्त थे। हालांकि सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क लगाना, आइसोलेशन, वैक्सीनेशन के साथ ही वायरस के म्यूटेशन पर बहुत कुछ निर्भर करता हैं l
– कोरोना की तीसरी लहर कब तक आ सकती है?
ऐसा कोई मैथमेटिकल मॉडल नहीं है, जिससे आपदा की सटीक जानकारी हो सके। केवल जो इनपुट मिल रहे हैं उन्हीं के आधार पर ही अनुमान लगाया जा सकता है। वायरस का बिहेवियर कैसा है और यह कैसे बदल रहा है, इस पर अनुमान लगाया जा सकता है। कई सारे टॉप वैज्ञानिकों ने भारत में कोरोना की पहली लहर में मौत के आंकड़ों का अनुमान लगाया था, लेकिन जो अनुमान लगाया गया वैसा नहीं हुआ।

क्या सबको लग पाएगी वैक्सीन?
वैक्सीन की उत्पादन क्षमता को कई तरीकों से बढ़ाया जा रहा है। वैक्सीन बनाने के लिए कच्चे माल की उपलब्धता, कुछ शर्तों में छूट दी जा रही है। साथ ही विदेश की वैक्सीन को मान्यता दी गई है। देश में कई और वैक्सीन तैयार की जा रही है जिसे जल्द मान्यता मिल सकती हैl

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेट कंट्रोल के साथ आपके मन को शांत रखती हैं ये पांच छोटी-छोटी बातें

कोलकाताः मन अशांत रहने का असर हमारे खाने-पीने की आदतों पर भी पड़ता है। मौजूदा समय में जिस तरह दुनिया अस्त-व्यस्तता से गुजर रही है, उसकी आगे पढ़ें »

बच्चों व महिलाओं के लिए 10 हजार बेड तैयार कर रहा स्वास्थ्य विभाग

बच्चों के लिए स्पेशल कोविड बेड हर अस्पताल में थर्ड वेव के मद्देनजर तैयारियां जोरों पर सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना वायरस महामारी के सेकंड वेव ने स्वास्थ्य आगे पढ़ें »

ऊपर