अभद्र टिप्पणी पर घमासान : कमलनाथ नहीं मांगेंगे माफी, शिवराज ने सोनिया को लिखा पत्र

– ‘महिला का अनादर करना आपकी राजनीति को कलंकित करता है’- शिवराज ने सोनिया गांधी को दिए पत्र में लिखा

भाेपाल: पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की ओर से राज्य की महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी पर दिए गए अभद्र ‘आइटम‘ वाले बयान पर राजनीतिक गलियारे में बवाल मच गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, ज्योतिरादित्य सिंधिया, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा समेत कई दिग्गज नेता विभिन्न शहरों में दो घंटे के मौन व्रत पर बैठे थे। जहां एक तरफ, इमरती देवी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कमलनाथ को पार्टी से निलंबित करने की मांग की है, वहीं दूसरी तरफ, शिवराज ने सोनिया को पत्र लिखकर इस स्थिति पर आवश्यक कार्रवाई करने का आग्रह किया है।

कमलनाथ ने किया माफी मांगने से इनकार

टिप्पणी को लेकर गर्माए सियासी माहौल में कमलनाथ ने ‘आइटम’ वाले बयान पर सफाई दी है और कहा, ‘हां! मैंने आइटम कहा है, क्योंकि यह असम्मानजनक शब्द नहीं है।’ उन्होंने लोक सभा और विधान सभा का हवाला देते हुए कहा, ‘शिवराज जी आप कह रहे हैं कमलनाथ ने आइटम कहा। हां मैंने आइटम कहा है, क्योंकि यह कोई असम्मानजनक शब्द नहीं है। मैं भी आइटम हूं आप भी आइटम है और इस अर्थ में हम सभी आइटम है। लोक सभा और विधान सभा में कार्यसूची को आइटम नंबर लिखा जाता है, क्या यह असम्मानजनक है? सामने आइए और मुकाबला कीजिए। सहानुभूति और दया बटोरने की कोशिश वही लोग करते हैं, जिन्होंने जनता को धोखा दिया हो।’

शिवराज सिंह चौहान ने सोनिया गांधी को लिखा पत्र

गौरतलब है कि, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रविवार को आगामी उपचुनावों के प्रचार के दौरान विवादास्पद टिप्पणी की थी। उन्होंने इमरती देवी को एक ‘आइटम’ कह कर संबोधित किया था। पत्र में चौहान ने उल्लेख किया कि उन्होंने सोचा था कि सोनिया गांधी न केवल एक दलित महिला पर अपनी पार्टी के नेता के बयान की निंदा करेंगी बल्कि उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी करेंगी ‘लेकिन आपने अभी तक ऐसा कुछ नहीं किया है,’ चौहान ने लिखा।

भाजपा के वरिष्ठ नेता ने यह भी कहा कि इस तथ्य के बावजूद कि कमलनाथ की टिप्पणी को देश भर में मीडिया द्वारा खारिज किया जा रहा है, कांग्रेस नेता उनकी ‘अशोभनीय’ और ‘निंदनीय’ टिप्पणी का बचाव कर रहे हैं। कमलनाथ के बयान पर इमरती देवी की ‘तीखी’ प्रतिक्रिया पर ध्यान देते हुए चौहान ने कहा कि ‘दलित महिला का इस तरह अपमान करना आपकी राजनीति को कलंकित करता है’। शिवराज ने पत्र में लिखा, ‘अशोभनीय टिप्पणी को जायज ठहराने का बेशर्मी भरा कृत्य’ करने वाले को सभी पार्टी पदों से तुरंत हटा दें और उनके बयान की कड़ी निंदा करें। यदि आप प्रतिक्रिया करने में विफल रहते हैं, तो मुझे यह विश्वास करने के लिए मजबूर किया जाएगा कि आप इसका समर्थन करते हैं।’

बाद में, एमपी के सीएम ने कहा, ‘आपकी पार्टी की एक नेता मैडम सोनिया गांधी, एक पूर्व सीएम ने ऐसी टिप्पणी की है। क्या यह सही है? क्या गरीब महिलाओं का कोई सम्मान नहीं है? महोदया, यदि आपको लगता है कि टिप्पणी गलत थी, तो आप क्या कार्रवाई करेंगे? मैं आपको लिख रहा हूं, आप एक निर्णय लें।’

इमरती देवी – ‘कमलनाथ को कांग्रेस से निकाला जाए’

दूसरी तरफ इमरती देवी ने कहा, ‘इन लोगों को मध्‍य प्रदेश में रहने का कोई हक नहीं। ये कहां से आए हैं… मैंने मध्‍य प्रदेश को देखा है। मध्‍य प्रदेश में सभी महिलाओं का सम्‍मान होता है… महिला शक्ति को घर की लक्ष्‍मी माना जाता है। आज उसने मध्‍य प्रदेश की सभी लक्ष्‍मियों (महिलाओं) को गाली दी है। मैं सोनिया गांधी से मांग करती हूं कि वह कमलनाथ को कांग्रेस से बाहर निकालें। मैं सोनिया गांधी जी से हाथ जोड़कर प्रार्थना करती हूं कि आप भी किसी की मां हैं। आप भी एक बेटी की मां हैं… यदि आपकी बेटी के बारे में कोई ऐसा कहेगा तो क्‍या आप उसे सहन करेंगी..? इमरती देवी ने पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ के इस अमर्यादित बयान पर आगे कहा कि यदि मेरा जन्म गरीब परिवार में हुआ तो इसमें मेरी क्या गलती है? अगर मैं दलित समुदाय से आती हूं तो उसमें मेरी क्या गलती है? यदि एक महिला के खिलाफ इस तरह के शब्द के प्रयोग होंगे तो वह आगे कैसे बढ़ेगी?’

शेयर करें

मुख्य समाचार

विराट अच्छे कप्तान लेकिन रोहित उनसे बेहतर : गंभीर

नयी दिल्ली : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी गौतम गंभीर ने टी-20 टीम कप्तानी पांच बार के आईपीएल विजेता रोहित शर्मा को सौंपने की आगे पढ़ें »

साढ़े चार महीनों में 22 कोविड-19 जांच करायी : गांगुली

मुंबई : बीसीसीआई अध्यक्ष और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने मंगलवार को खुलासा किया कि महामारी के बीच अपनी पेशेवर प्रतिबद्धताओं को पूरा करने आगे पढ़ें »

ऊपर