9 को तृणमूल के कई बड़े नेता दिख सकते हैं नड्डा के साथ

किसान के घर में भोजन करेंगे नड्डा
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राजनीति का ऊंट कब किस करवट बैठे, यह कोई नहीं बता सकता। पिछले कुछ वर्षों में पश्चिम बंगाल की राजनीति में काफी उथल-पुथल हुए। वामपंथी से लेकर राज्य दक्षिणपंथी राजनीति की ओर बढ़ने लगा और देखते ही देखते जिस भाजपा को कल तक बंगाल में कोई पूछ नहीं थी, वह भाजपा आज सत्ताधारी पार्टी को कड़ी टक्कर दे रही है। ऐसे में अब समय बदलता देख नेता भी लगातार पाला बदलने में लगे हुए हैं। कल तक जो तृणमूल के गुणगान करते नहीं थकते थे, आज वे भाजपा का राग अलापते नजर आ रहे हैं।
9 तारीख यानी शनिवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा बर्दवान में किसानों के साथ बैठक के अलावा सभा भी करने वाले हैं। ऐसे में चर्चा जोरों पर है कि इस दिन तृणमूल के कई बड़े नेता नड्डा के साथ दिख सकते हैं। पार्टी सूत्रों का कहना है कि इस दिन कटवा में होने वाली सभा में तृणमूल के कई दिग्गज भाजपा का दामन थाम सकते हैं। इनमें तृणमूल के कुछ बड़े मंत्रियों से लेकर पूर्व मंत्री और विधायक के नाम शामिल हैं। सूत्रों का यह भी कहना है कि इस दिन एक बड़ा विकेट कांग्रेस का भी गिर सकता है। इस बीच, तृणमूल में इस्तीफे का दौर भी शुरू हो चुका है। मंगलवार को हावड़ा जिलाध्यक्ष और मंत्री पद से लक्ष्मी रतन शुक्ला ने इस्तीफा दे दिया। यहां उल्लेखनीय है कि गत 19 दिसम्बर को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मिदनापुर में हुई सभा में शुभेंदु अधिकारी समेत तृणमूल व माकपा के कई बड़े नेता भाजपा में शामिल हुए थे। वहीं भाजपा की ओर से काफी पहले से कहा जा रहा है कि लगभग 50 विधायक पार्टी के संपर्क में हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बड़ी खबर : राज्य में न ही कोई रोजगार है और न ही उद्योग : राजीव

हावड़ा : राज्य के वन मंत्री राजीव बनर्जी शनिवार को सोशल मीडिया के माध्यम आम लोगों के सामने अपनी बातों को रखा। फेसबुक लाइन में आगे पढ़ें »

किसी बात से दुखी भी हूं तो नहीं छोड़ूंगा तृणमूल : प्रसून

'भाजपा के किसी नेता से कोई सम्पर्क नहीं है' हावड़ा : पार्टी के किसी बात से दुखी भी हूं तो नहीं छोड़ूगा पार्टी , यह कहना आगे पढ़ें »

ऊपर