एक एंबुलेंस में रखे गए कोरोना मरीजों के 22 शव, अस्‍पताल ने दी मजबूरी की दलील

नई दिल्ली : देश में कोराना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार से थमती सांसों का सिलसिला जारी है। हर पल हालात बदतर होते जा रहे हैं। हर दिन रिकॉर्ड मौतों का आंकड़ा खौफ बढ़ाता जा रहा है। हालात इस कदर बदतर हो चले हैं कि श्‍मशान तक कोरोना मरीजों के शव तक ले जाने के लिए अस्‍पतालों में एंबुलेंस उपलब्‍ध नहीं है। एक ही एंबुलेंस में 20 से 22 लोगों के शव लादकर उन्‍हें श्‍मशान, कब्रिस्‍तान पहुंचाया जा रहा है। महाराष्‍ट्र के बीड जिले की एक दिल दहलाने वाली, अमानवीय और इंसानियत को शर्मसार करने वाली तस्‍वीर सामने आई है। बीड जिले के अंबाजोगाई में स्वामी रामानंद तीर्थ अस्पताल में कोरोना से मरने वाले 22 मरीजों के शव रविवार को एक ही एम्बुलेंस में लादकर कब्रिस्तान में ले जाया गया। इस पर अस्पताल की दलील है कि उसके पास एंबुलेंस नहीं है। वहीं दूसरी ओर इस अमानवीय तस्वीर के सामने आने के बाद लोगों में अस्‍पतालों के खिलाफ गुस्सा है। जिस तरह से मरीजों के शवों को अंतिम संस्कार के लिए एक ही एंबुलेंस में ठूस कर ले जाया गया, वह बेहद चौंकाने वाला है।
इस अमानवीयता के लिए अस्पताल ने क्या दी दलील

मामला महाराष्‍ट्र के बीड जिले स्वाराती अस्पताल का है जहां 25 अप्रैल को एक ही एम्बुलेंस में 22 मरीजों के शव को कब्रिस्तान में ले जाया गया था। जिस तरह से मरीजों के शवों को अंतिम संस्कार के लिए एक ही एंबुलेंस में ठूस कर ले जाया गया, वह बेहद चौंकाने वाला है। अस्पताल प्रशासन के मुताबिक, अस्पताल में सिर्फ दो एंबुलेंस है, महामारी के चलते पांच अतिरिक्त एंबुलेंस की मांग की गई है, 17 मार्च 2021 को अतिरिक्त एम्बुलेंस के लिए जिला प्रशासन को लिखा है, लेकिन अभी तक कोई भी एम्बुलेंस प्राप्त नहीं हुई है, एम्बुलेंस की कमी के कारण लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस पूरे घटनाक्रम के बाद स्‍थानीय लोगों में भारी आक्रोश है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

परिवार का कोई सदस्‍य हो गया है कोरोना पॉजिटिव तो घबराएं नहीं, इन 5 बातों का रखेंगे ख्याल

कोलकाता : देशभर में कोरोना का कहर जारी है। रोज संक्रमण के मामले रिकार्ड बना रहे है। मरीजों की बढ़ती संख्या की वजह से देश आगे पढ़ें »

बड़ी खबरः अगले हफ्ते से भारत में मिलेगी Sputnik V वैक्सीन

नई दिल्लीः देश में जारी कोरोना संकट के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस कॉन्फ्रेंस में मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल, आगे पढ़ें »

ऊपर