इंदौर हनीट्रैप मामले का पर्दाफाश, कांग्रेसी नेता की पत्नि सहित 4 गिरफ्तार

honeytrap

इंदौर: मध्यप्रदेश की राजधानी इंदौर में हनीट्रैप मामले के खुलासे से राजनीतिक गलियारों में आफरातफरी मच गयी है। हनीट्रैप से संबंधित इस हाईप्रोफाइल मामले ने पांच महिलाओं का भांडा फोड़ हुआ है जो नेताओं और बड़े अफसराें से अश्लील वीडियो के सहारे ब्लैकमैल कर उनसे पैसे हड़पती थी। पुलिस ने इस केस में 5 औरतों के साथ एक ड्राइवर को गिरफ्तार किया है। जानकारी के मुताबिक ये महिलाएं नेताओं और अधिकारियों को अपने हुस्न के जाल में फंसा कर, उनके साथ हमबिस्तर होकर वीडियो बनाती थी और फिर ब्लैकमेलिंग करके सभी से पैसे लुटती थी। लेकिन इंदौर नगर निगम के इंजीनियर के साथ ऐसा करना उनको भारी पड़ गया। अफसर की शिकायत से उनके इस हनीट्रैप मामले का खुलासा हुआ और पुलिस ने भोपाल से तीन, इंदौर से 2 महिलाओं समेत कुल 5 युवती और एक युवक को गिरफ्तार किया है।

इन्दौर की एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र ने बताया कि इस मामले में आरती दयाल (29), मोनिका यादव (18), श्वेता जैन पति विजय जैन (39), श्वेता जैन पति स्‍वप्निल जैन (48), और बरखा सोनी (34) को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस को इनके पास से 14 लाख से भी ज्यादा नकद राशि, मोबाइल,लैपटॉप और एसयूवी भी बरामद किया गया है।

नगर निगम के इंजीनियर से मांगे थे 3 करोड़

एसएसपी के मुताबिक पूछताछ में आरती दयाल ने बताया कि नौकरी का लोभ देकर उसने इंदौर के नगर निगम के इंजीनियर से उसकी मुलाकात मोनिका ने करवाई थी। दोनों के बीच एक बार अंतरंग संबंध बनने के बाद आरोपी महिलाओं ने इंजीनियर को ब्लैकमेल कर 3 करोड़ रुपयों की मांग की। इंजीनियर ने इस दौरान तीन बार पैसे भी दे दिए। ब्लैकमेलिंग का सिलसिला करीब 8 महीनों तक चला पर जब 3 करोड़ रूपयों की मांग आयी तब अधिकारी के होश उड़ गए। उसने पुलिस से इसकी शिकायत कर दी और उनका पर्दाफाश करने के लिए पुलिस के साथ मिलकर योजना बनाई। पुलिस ने उन्हें पैसे का लालच देकर उनके पास पहली किस्त की रकम 50 लाख रुपए भेजवा दिए। इसी दौरान आरती, मोनिका और उसके ड्राइवर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

कांग्रेस नेता के तार जुड़े
मामले की पूछताछ के दौरान कांग्रेस के आइटी सेल के नेता अमित सोनी के तार उनसे जुड़े पाए गए। अमित की पत्नी बरखा सोनी को पुलिस ने गिरफ्तार ‌कर लिया है। हालांकि कांग्रेस सोशल मीडिया एवं आईटी विभाग के अध्यक्ष अभय तिवारी ने काफी पहले अमित सोनी को सभी पदों एवं समितियों से हटा दिया था। इसके बाद अमित का एक ई-मेल सोशल मीडिया पर फैल गया जिससे उनके कालर्गल से संपर्क की बात सामने आ गई। इस गिरोह से कई बड़े राजनताओं के नाम जुड़ने की आशंका जताई जा रही है। बता दें ‌कि जिस बंगले से युवतियों को गिरफ्तार किया गया उसे पूर्व मंत्री का आवास बताया जा रहा है। इसके साथ ही इस केस में विधायक के भी शामिल होने पर संदेह जताया जा रहा है।

गृहमंत्री ने कहा- कोई नहीं बच पाएगा

हनीट्रैप मामले में गृहमंत्री बाला बच्चन ने कहा है कि इस केस की गहराई तक जांच की जाएगी और कोई नहीं बच पाएगा। जिन जिन आरोपियों ने लोगो को इस तरह अपने जाल में फंसाकर ठगा है सभी को बेनकाब किया जाएगा। भोपाल एवं इंदौर की पुलिस इस मामले की जांच में लगी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

hongkong

हांगकांग ‘लोकतंत्र अधिनियम’ पारित, चीन ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

वाशिंगटन : हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों की मांग वाले एक विधेयक को अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने मंगलवार को पारित कर दिया, जिसका उद्देश्य उस आगे पढ़ें »

रतन टाटा खुद को मानते हैं ‘एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक’, कई बड़ी कंपनियों में है हिस्सेदारी

नई दिल्ली : उद्योगपति और टाटा समूह के चेयरमैन रतन टाटा ने खुद को 'एक्सीडेंटल स्टार्टअप निवेशक' माना है। उन्होंने दर्जनभर से ज्यादा स्टार्टअप कंपनियों आगे पढ़ें »

court

अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने 40 दिन की सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा

ayodhya

अयोध्या मामला : मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा, शीर्ष न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया जाना चाहिए

अमेरिकी प्रतिबंधों के पालन के लिए भारत अपना नुकसान नहीं करेगा: वित्त मंत्री

russia

तुर्की और सीरिया की लड़ाई में रूस बना दीवार, तैनात की अपनी आर्मी

sitaraman

अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद ‘मानवाधिकार’ विश्व स्तर पर ज्वलंत शब्द बन गया : सीतारमण

chetak

बजाज ने पेश किया इलेक्ट्रिक चेतक स्कूटर, सामने आया पहला लुक

rail

रेलवे ने शुरू की नई योजना, अब फिल्म प्रमोशन के लिए हो सकेगी ट्रेनों की बुकिंग

modi

पीएम मोदी बोले- राष्ट्र निर्माण का आधार है सावरकर के संस्कार

ऊपर