हम देश का मस्तक झुकने नहीं देंगे … देखिए रक्षामंत्री के संसद में बयान का वीडियो

नई दिल्ली: लद्दाख के पूर्वी क्षेत्र में चीनी सेना के साथ गतिरोध के मद्देनजर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को कहा कि 130 करोड़ भारतीय यकीन करें, हम भारत का मस्तक झुकने नहीं देंगे और ना ही हम किसी का मस्तक झुकाना चाहते हैं। भारत शांतिपूर्ण तरीके से सीमा मुद्दे के हल के लिए प्रतिबद्ध है और राजनयिक एवं कूटनीतिक माध्यम से पड़ोसी देश को यह बता दिया है कि यथास्थिति में एकतरफा ढंग से बदलाव का कोई भी प्रयास अस्वीकार्य होगा। हमने सैनिकों के लिए विशेष वस्त्र, उपकरण, गोला-बारूद का पूरा इंतजाम कर लिया है और उन्हें सैनिकों को उपलब्ध करा दिया है।

यहां देखिए वीडियो – रक्षामंत्री ने और क्या क्या कहा संसद में


प्रतिकूल स्तिथियों में सशस्त्र बल समर्थ
राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख की स्थिति पर राज्यसभा में दिए अपने बयान में कहा कि भारत हर मुद्दे का शांतिपूर्ण ढंग से हल करना चाहता है पर प्रतिकूल स्तिथियों में हमारे सशस्त्र बल देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए डटकर खड़े हैं। उन्होंने कहा, ‘भारत तथा चीन दोनों ने औपचारिक तौर पर यह माना है कि सीमा का प्रश्न एक जटिल मुद्दा है जिसके समाधान के लिए संयम की आवश्यकता है तथा इस मुद्दे का उचित, व्यवहारिक और एक दूसरे को स्वीकार्य समाधान, शांतिपूर्ण तरीके से बातचीत के द्वारा निकाला जाए।’

चीनी गतिविधियां नामंजूर
राजनाथ सिंह ने कहा कि अभी तक भारत-चीन के सीमावर्ती क्षेत्रों में साझा रूप से चिन्हित वास्तविक नियंत्रण रेखा नहीं है और वास्तविक नियंत्रण रेखा को लेकर दोनों पक्षों की समझ अलग-अलग है इसलिए शांति बहाल रखने के वास्ते दोनों देशों के बीच कई तरह के समझौते और प्रोटोकॉल हैं। राजनाथ ने कहा, ‘हमने चीन को राजनयिक तथा सैन्य माध्यमों के जरिये यह अवगत करा दिया कि इस प्रकार की गतिविधियां, स्थिति को यानी यथास्थिति को एक तरफा बदलने का प्रयास है। यह भी साफ कर दिया गया कि ये प्रयास हमें किसी भी सूरत में मंजूर नहीं है।’ रक्षा मंत्री ने कहा, ‘मैंने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि हम मुद्दे का शांतिपूर्ण ढंग से समाधान करना चाहते हैं और चीनी पक्ष इस पर हमारे साथ काम करे। लेकिन किसी को भी भारत की सम्प्रभुता और अखंडता की रक्षा को लेकर हमारी प्रतिबद्धता पर रत्ती भर भी संदेह नहीं होना चाहिए।’

वास्तविक नियंत्रण रेखा जटिल मुद्दा
रक्षा मंत्री ने कहा कि चीन, भारत की लगभग 38,000 वर्ग किलोमीटर भूमि पर अनधिकृत कब्जा लद्दाख में किए हुए है। इसके अलावा 1963 में एक तथाकथित सीमा समझौते के तहत पाकिस्तान ने पीओके की 5,180 वर्ग किमी भारतीय जमीन अवैध रूप से चीन को सौंप दी है। राजनाथ ने अप्रैल के बाद से पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध के हालात और सीमा पर शांति के लिए कूटनीतिक तथा सैन्य स्तर पर किये गये प्रयासों का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा, ‘1993 और 1996 के समझौते में इस बात का जिक्र है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास दोनों देश अपनी अपनी सेनाओं के सैनिकों की संख्या कम से कम रखेंगे। समझौते में यह भी शामिल है कि जब तक सीमा मुद्दे का पूर्ण समाधान नहीं हो जाता है, तब तक वास्तविक नियंत्रण रेखा का सख्ती से सम्मान किया जाएगा।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

उत्तर प्रदेश के गांवों में अनाज भंडारण के लिए बनेंगे 5000 गोदाम

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार किसानों को फसल सुरक्षित रखने और उसकी अच्छी कीमत दिलाने के लिये गांवों में 5000 भण्डारण गोदाम आगे पढ़ें »

गांजे की खेती वाले कमेंट पर भड़कीं कंगना रनौत, उद्धव ठाकरे पर किया पलटवार

  मुंबई: बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के गांजे की खेता वाले कमेंट पर पलटवार करते हुए कहा कि जनसेवक होकर आप इस तरह आगे पढ़ें »

ऊपर