उद्धव कैबिनेट का अहम फैसला

महाराष्ट्र : महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच राज्य कैबिनेट ने आज अहम फैसला लिया। उद्धव कैबिनेट ने औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजी नगर और उस्मानाबाद का नाम बदलकर धाराशिव करने को मंजूरी दी है। इसी तरह नवी मुंबई एयरपोर्ट का नाम बदलकर डीबी पाटिल इंटरनेशनल एयरपोर्ट करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी गई है।

संभाजी नगर पर अनिल परब ने दिया था बयान
राज्य मंत्री अनिल परब ने कल इसे लेकर बयान भी दिया था। उन्होंने कहा था कि औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजी नगर किया जाना चाहिए।  आज कैबिनेट में हुए इस फैसले से कांग्रेस और एनसीपी नाखुश है। उद्वव कैबिनेट का यह अहम फैसला ऐसे वक्त पर आया है जब महाराष्ट्र सरकार पर सियासी संकट के बादल छाए हुए हैं। शिवसेना से करीब 40 विधायक एकनाथ शिंदे के साथ जा चुके हैं। राज्यपाल ने विधानसभा में 30 जून को बहुमत परीक्षण के निर्देश दिए हैं और इसी पर सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई हो रही है। बैठक में शामिल रहे जयंत पाटिल ने बताया कि सीएम ने मीटिंग में कहा कि अपने ही लोगों ने साथ नहीं दिया है। राकांपा नेता और महाराष्ट्र के मंत्री जयंत पाटिल ने राज्य कैबिनेट की बैठक के बाद कहा, सीएम ठाकरे ने कहा कि सभी तीन पार्टियां एक साथ आईं और ढाई साल में अच्छा काम किया। उन्होंने सभी पार्टियों का आभार जताया। कल विश्वासमत होगा और यह तय किया जाएगा कि यह अंत है या नहीं। सीएम उद्धव ठाकरे ने आगे कहा कि उन्हें कांग्रेस और एनसीपी का समर्थन मिला लेकिन दुर्भाग्य से उन्हें अपनी ही पार्टी (शिवसेना) के लोगों का समर्थन नहीं मिला।
कांग्रेस मंत्री सुनील केदार ने की सीएम उद्धव की तारीफ
राज्य कैबिनेट की बैठक के बाद महाराष्ट्र के मंत्री और कांग्रेस नेता सुनील केदार ने बताया कि सीएम ने कहा कि हम उनके साथ अच्छा सहयोग करते हैं और वह भविष्य में भी हमसे इसी तरह के सहयोग की अपेक्षा करेंगे। सुनील केदार ने कहा, उद्धव ठाकरे को कोई पूर्व प्रशासनिक अनुभव नहीं था। उन्होंने कोरोना से मुकाबला किया। उनकी क्रिटिकल सर्जरी हुई थी। स्पाइनल सर्जरी कराने के एक महीने के भीतर किसने काम करना शुरू कर दिया है? मुझे एक नाम बताओ। इस आदमी ने ऐसा किया। यहां तक कि पीएम ने उनसे कहा कि उन्होंने ताकत दिखाई। केदार ने कहा, विधायक अपनी अंतरात्मा की आवाज सुनकर सदन में वोट करते हैं। मुझे लगता है कि ढाई साल में हर विधायक ठाकरे सरकार के काम के बारे में जरूर सोचेगा। सीएम ने दो साल तक कोरोना का मुकाबला किया और सभी ने इसकी सराहना की। उन्होंने दूसरे राज्यों के लोगों को भी भूखा नहीं रहने दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कोयला तस्करी: अनुब्रत की गिरफ्तारी के बाद अब अफसरों पर ईडी की नजर

कोलकाता : कोयला और गाय तस्करी मामले में तृणमूल  नेता अनुव्रत मंडल की गिरफ्तारी के बाद अब राज्य के आठ आला पुलिस अधिकारियों पर  ईडी आगे पढ़ें »

ऊपर