क्या ये भी कारण हो सकता है तलाक का?

भोपाल : यह अनोखा मामला मध्य प्रदेश के भोपाल में कटारा हिल्स इलाके के आया है जो सुनने में काफी अटपटा लगेगा लेकिन एक महिला ने अपने पति से इसलिए तलाक मांगा है, क्योंकि वह यूपीएससी की तैयारी में लगे रहते हैं। उसके सजने-संवरने पर पति तारीफ नहीं करते। महिला का कहना है कि यूपीएससी की तैयारी में जुटे रहने के कारण पति उसकी तरफ ध्यान ही नहीं देते। भोपाल जिला विधिक सेवा प्राधिकरण में काउंसलिंग के दौरान पत्नी ने कहा कि पति कमरा बंद कर तैयारी में ही लगे रहते हैं। वह इतना खोए रहते हैं कि कई बार पूरे दिन उससे बात नहीं करते। पत्नी का कहना है कि उसने अपने पति से कई बार शॉपिंग कराने, फिल्म दिखाने और बाहर घूमने ले जाने के लिए कहा लेकिन पति ने उसकी बातों पर ध्यान नहीं दिया। वह अपने रिश्तेदारों के घर भी नहीं जाते। महिला के अनुसार, उसके मायके जाने पर पति उसे फोन भी नहीं करते।
‘पति का होना या न होना बराबर’
महिला का कहना है कि शादी को दो साल हो गए। पति सिर्फ अपनी कोचिंग और तैयारी पर ही ध्यान देता है। मेरे लिए पति का होना या न होना बराबर है। महिला के अनुसार वह मुंबई की रहने वाली है। उसका कोई रिश्तेदार भी वहां नहीं है, जिससे वह मन बहला सके। महिला का कहना है कि एकांकी जीवन से वह तंग आ चुकी है।
पति को नहीं है कोई शिकायत
काउंसलर नुरान्निशा खान ने जब पति को काउंसलिंग के लिए बुलाया, तो उसने बताया कि उसने बचपन से ही यूपीएससी को अपना लक्ष्य बनाया हुआ है। ऐसे में उसका ज्यादातर वक्त कोचिंग और पढ़ाई में निकलता है। काउंसलर के मुताबिक पति को अपनी पत्नी से किसी भी प्रकार की कोई शिकायत नहीं है, लेकिन उसे लगता है कि उसका वैवाहिक जीवन स्थिर नहीं है। वह नहीं चाहता कि स्थितियां आगे जाकर और बिगड़ें।
काउंसलर नुरान्निशा ने कहा कि फिलहाल दोनों को और वक्त दिया गया है ताकि वे अपने फैसले पर दोबारा सोचें। उन्होंने कहा कि दोनों को समझाया गया है कि वे एक-दूसरे की भावनाएं समझें और समय निकालें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पानी की टंकी में डाल दें इन में से 1 चीज, पैसों की किल्लत होगी दूर

कोलकाताः हर किसी को अच्छा जीवन बीताने के लिए आर्थिक तौर पर सक्षम होना जरूरी है। मगर बहुत बार मेहनत करने के बावजूद भी व्यक्ति आगे पढ़ें »

टीएमसी नेता कुणाल घोष ने ईडी को भेजा नोटिस, आज होगी पेशी

कोलकाताः पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर टीएमसी नेताओं पर केंद्रीय एजेंसियों ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। अब टीएमसी नेता कुणाल घोष को आगे पढ़ें »

ऊपर