घर पर रहकर 14 दिन में यूं जीत सकते हैं कोरोना से जंग, इन बातों का रखें ध्यान

कोलकाताः देश में जिस रफ्तार से हर दिन कोरोना के नए संक्रमित मरीज सामने आ रहे हैं उसे देखते हुए अस्पतालों में संसाधनों की भारी कमी महसूस हो रही है। बेड से लेकर दवाइयां और ऑक्सीजन तक सभी मरीजों को पर्याप्त रूप से नहीं मिल पा रहा जिसकी वजह से रोजाना हजारों मरीजों की मौत भी हो रही है। यही वजह है कि ज्यादातर डॉक्टर यही सलाह दे रहे हैं कि अगर किसी व्यक्ति की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आती है तो घबराने की बजाए तुरंत खुद को घर में 14 दिन के लिए पूरी तरह से आइसोलेट करें। साथ ही अपने फैमिली डॉक्टर के संपर्क में लगातार बने रहे और उनके द्वारा बताए रहे नियमों का सख्ती से पालन करें।
3 चरणों में जीत सकते हैं कोरोना से जंग
डॉक्टरों की मानें तो घर पर रहकर ही देश के 80 प्रतिशत से ज्यादा कोरोना के मरीज ठीक हो रहे हैं। इसलिए घबराएं नहीं और अपनी सोच सकारात्मक रखें। ऐसा करना इसलिए जरूरी है क्योंकि स्ट्रेस, टेंशन और घबराहट की वजह से ही ऑक्सीजन का लेवल ड्रॉप होने लगता है जिसकी वजह से यह बीमारी जानलेवा हो सकती है। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं उन 3 स्टेज या चरण के बारे में जो इन 14 दिनों में आपको कोरोना पॉजिटिव से निगेटिव होने में मदद कर सकते हैं।
पहला चरण- 1 से 4 दिन
किसी मरीज की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने से लेकर अगले 4 दिनों तक उसे बेहद संभलकर रहने की जरूरत होती है। इस वक्त वायरस सबसे शक्तिशाली होता है और मरीज के नाक और गले में रहता है जहां से यह शरीर में फैलने की कोशिश करता है। इस दौरान डॉक्टर की बताई गई दवाइयां नियमित रूप से लें, ब्रीदिंग एक्सरसाइज करें, स्टीम लें, गर्म पानी पीएं, हेल्दी खाना खाएं, अपना बॉडी टेम्परेचर और ऑक्सीजन लेवल चेक करते रहें।
दूसरा चरण- 5 से 9 दिन
अगर शुरुआती स्टेज में ही बीमारी को रोका न जाए तो यह इंफेक्शन फेफड़ों तक पहुंच जाता है और फेफड़ों में संक्रमण की वजह से 8 से 10 दिनों में कोविड निमोनिया का खतरा हो सकता है। इसलिए अपने लक्षणों को लेकर अपने डॉक्टर के साथ लगातार संपर्क में बने रहें। अगर आपमें हल्के लक्षण हैं और स्थिति सामान्य है तो दूसरे चरण में मरीज का बुखार कम होने लगता है, लेकिन बदन में दर्द और कमजोरी रहती है। इसलिए इस दौरान प्रोटीन से भरपूर चीजें खाएं, पानी पीते रहें, स्टीम लें, अपना तापमान और ऑक्सीजन लेवल चेक करते रहें।
तीसरा चरण- 10 से 14 दिन
अगर आपमें हल्के लक्षण वाली बीमारी हुई है तो इस स्टेज में आप वायरस के खतरे से बाहर आने लगते हैं और आपकी रिकवरी होने लगती है। इसलिए जरूरी है कि आप इस समय अच्छी डाइट लें, एक्सरसाइज करें ताकि खोई एनर्जी को वापस पा सकें और कमजोरी दूर हो सके, लेकिन जब तक आपकी रिपोर्ट निगेटिव नहीं आ जाती, खुद को आइसोलेट ही रखें।
होम आइसोलेशन में इन बातों का भी रखें ध्यान
मरीज को हर वक्त तीन लेयर वाला मास्क पहनना चाहिए और इसे हर 6-8 घंटे में बदलना चाहिए-मरीज का बर्तन, तौलिया, चादर, कपड़े आदि बिल्कुल रखें और घर के बाकी सदस्यों के साथ उसे मिक्स न करें-साबुन पानी और सैनिटाइजर से बार-बार अपने हाथों को साफ करते रहें-हेल्दी खाना खाकर शारीरिक रूप से मजबूत बनने के साथ ही मानसिक तौर पर भी मजबूत बने रहना जरूरी है इसलिए सकारात्मक सोच रखें, अच्छी किताबें पढ़ें, दोस्तों और रिश्तेदारों से फोन पर बात करें।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोविड रिपोर्ट का ना करें इंतजार, एमरजेंसी मरीजों को ले भर्ती

स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया निर्देश सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : स्वास्थ्य विभाग में निर्देश जारी कर सभी अस्पतालों को कहा है कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए आगे पढ़ें »

लॉकडाउन नहीं होने के बावजूद नियम उतने ही कड़े होंगे : ममता

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोरोना के बढ़ते मामलों को रोकना है लेकिन लॉकडाउन इसका समाधान नहीं है। इसलिए राज्य में लॉकडाउन नहीं लगेगा लेकिन नियम लॉकडाउन आगे पढ़ें »

ऊपर