ओमिक्रॉन कितने लोगों को पहुंचा रहा आईसीयू, मौत का खतरा कितना ज्यादा?

नई दिल्लीः भारत में ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच एक अच्छी खबर सामने आई है। जाने-माने एक्सपर्ट डॉ. फहीम यूनुस ने अपने ट्विटर हैंडल पर महामारी में राहत देने वाले कुछ आंकड़े साझा किए हैं। एक हालिया स्टडी के आधार पर डॉ. यूनुस ने ओमिक्रॉन वैरिएंट को पिछले साल तबाही मचाने वाले डेल्टा से कम खतरनाक बताया है। दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 के मरीजों पर हुई एक स्टडी में ओमिक्रॉन से संक्रमित 31 फीसद मरीजों में रेस्पिरेटरी (सांस से जुड़ी दिक्कतें) के घातक लक्षण देखे गए हैं, जबकि डेल्टा संक्रमितों में इसका खतरा 91 फीसदी तक देखा गया है। इस दौरान डेल्टा के मरीजों को लगभग सात दिन अस्पताल में एडमिट रखना पड़ा, लेकिन ओमिक्रॉन के मरीजों को 3 दिन से ज्यादा अस्पताल में रखने की आवश्यकता नहीं पड़ी।

स्टडी के मुताबिक, डेल्टा के 69 प्रतिशत मरीजों को अस्पताल में एडमिट करने की जरूरत पड़ी, जबकि ओमिक्रॉन में केवल 41 प्रतिशत मरीजों को ही अस्पताल में एडमिट करने की नौबत आई। आंकड़े बताते हैं कि डेल्टा के 30 प्रतिशत मरीजों को आईसीयू में दाखिल किया गया था, जबकि ओमिक्रॉन में केवल 18 प्रतिशत मरीजों के लिए ही आईसीयू की जरूरत महसूस हुई।
बड़ी राहत देखी गई

मरीजों को वेंटीलेटर पर रखने के मामले में भी बड़ी राहत देखी गई। डेल्टा से संक्रमित करीब 12 प्रतिशत मरीजों को वेंटीलेटर पर रखने की जरूरत पड़ी, जबकि ओमिक्रॉन के मामले में यह आंकड़ा केवल 1.6 प्रतिशत था। इसी तरह, डेल्टा रोगियों में मृत्यु दर 29 प्रतिशत थी, जबकि ओमिक्रॉन के मरीजों में मृत्यु दर केवल 3 प्रतिशत देखने को मिली।
हालांकि डॉ. यूनुस ने कहा, ‘इन सकारात्मक आंकड़ों के बावजूद स्टडी की कुछ सीमाएं भी थीं। यहां ओमिक्रॉन वाले ग्रुप में युवा मरीज शामिल थे और इसके बेहतर परिणाम की एक वजह पूर्व संक्रमण और वैक्सीन से डेवलप हुई इम्यूनिटी भी हो सकती है। डेल्टा वाले ग्रुप में मरीजों की औसत आयु 59 थी, जबकि ओमिक्रॉन वाले ग्रुप में मरीजों की औसत आयु 36 थी।’

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बड़ी खबर : कीमती मोबाइल खरीदना पत्नी को पड़ा महंगा, पति ने भेजा सुपारी किलर, हुई….

दक्षिण 24 परगना : पत्नी द्वारा महंगा मोबाइल फोन खरीदने को लेकर हुए विवाद के बाद एक व्यक्ति ने उसकी हत्या के लिए सुपारी किलर आगे पढ़ें »

ऊपर