कोवैक्सीन और कोविशील्ड की पहली-दूसरी डोज़ के बाद कितने लोग हो रहे पॉजिटिव? आंकड़े जारी

नई दिल्ली: देश में कोविड-19 के खिलाफ वैक्सीनेशन चल रहा है l देश में वैक्सीनेशन के बीच बहुत से ब्रेकथ्रू इंफेक्शन सामने आए हैं यानी कि वैक्सीनेशन के बाद भी संक्रमण के मामले मिल रहे हैं l स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को इसपर ताजा आंकड़े साझा किए हैं कि आखिर वैक्सीनेशन के बाद कितने संक्रमण के मामले दर्ज किए जा रहे हैं l देश में फिलहाल दो वैक्सीन- भारत बायोटेक की कोवैक्सीन और सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड लग रही है l
– कोवैक्सीन में कितना हुआ संक्रमण
आंकड़ों के मुताबिक, भारत बायोटेक की कोवैक्सीन लगवाने के बाद कुल 23,940 संक्रमण के मामले सामने आए हैं l यह कुल वैक्सीनेशन का 0.13% है l यानी कि कोवैक्सीन जितने भी लोगों को लगी है, उनमें से 0.13 फीसदी लोग वैक्सीनेशन के बाद संक्रमित हुए हैं l वहीं अगर अलग-अलग डोज़ के बीच की संक्रमण दर देखें तो कोवैक्सीन की पहली डोज के बाद 18,427 लोग कोविड से संक्रमित हुए हैं, वहीं दूसरी डोज़ के बाद 5,513 लोग संक्रमित हुए हैं l सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड लगवाने वाले कुल लोगों मे से 1,19,172 लोगों में कोरोना का संक्रमण दोबारा हुआ है, जोकि कुल कोविशील्ड वैक्सीनेशन का 0.07% है l इस वैक्सीन का पहला डोज़ लगवाने के बाद कुल 84,198 लोग संक्रमित हुए हैं, वहीं दूसरी डोज़ के बाद 34,974 लोगों को कोविड का संक्रमण वैक्सीन लगवाने के बावजूद हुआ है l इसके पहले स्वास्थ्य अधिकारियों ने ब्रेकथ्रू इंफेक्शन पर 21 अप्रैल को भी आंकड़े साझा किए थे l उस वक्त बताया गया था कि उस तारीख तर कोवैक्सीन को 1.1 करोड़ लोगों ने लिया है, जिसमें पहली डोज लेने के बाद 4,208 और दूसरी डोज लेने के बाद 695 लोग पॉजिटिव हुए हैंl वहीं, कोविशील्ड 11.6 करोड़ लोगों को दी गई है. यह वैक्सीन लगवाने वालों में पहली डोज के बाद 17,145 लोग और दूसरी डोज के बाद 5,014 लोग पॉजिटिव हुए हैं

शेयर करें

मुख्य समाचार

‘उत्तर बंगाल में भाजपा की अंत शुरूआत हुई’

कहा - राज्य में भाजपा का पतन निकट अलीपुरदुआर के भाजपा अध्यक्ष सहित 7 नेता तृणमूल में शामिल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : उत्तर बंगाल में भाजपा को झटका आगे पढ़ें »

सेक्स के 4 ऐसे पोजीशन जो रात को बना देती है, खुशनुमा

कोलकाताः सेक्स दुनिया का सबसे अलग एहसास है। हालांकि सेक्स को लेकर तरह-तरह के सवाल सभी के मन में रहते है। इसे लेकर लोगों की आगे पढ़ें »

ऊपर