कुतुब मीनार मामले में सुनवाई पूरी, पूजा की अर्जी पर 9 जून को आएगा फैसला

नई दिल्लीः कुतुब मीनार मामले में दिल्ली के साकेत कोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई है। कोर्ट में हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन ने दलील दी है कि वहां 1600 साल पुराना पिलर है। हिंदू पक्ष मे कोर्ट से कुतुब मीनार परिसर में पूजा के अधिकार की मांग की है। हिंदू पक्ष ने कहा है कि कुतुब मीनार में मंदिर ट्रस्ट बनाने की मांग की है। इस मामले में 9 जून को कोर्ट फैसला सुनाएगा। साकेत कोर्ट ने इस मामले में सभी पक्षों को एक हफ्ते में जवाब दाखिल करने के लिए कहा है। कोर्ट ने मामले में अपना फैसला सुरक्षित रखा है।

हिंदू पक्ष के वकील ने दी ये दलील

सुनवाई के दौरान हिंदू पक्ष के वकील हरीशंकर जैन ने कोर्ट में दलील दी कि यहां प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट लागू नहीं होता। उन्होंने आगे कहा कि नेशनल मॉन्युमेंट एक्ट कहता है कि किसी संरक्षित स्मारक के धार्मिक स्वरुप को बदला नहीं जा सकता। हमारा ये कहना है कि यहा देवता हमेशा विद्यमान रहे हैं, उनकी मौजूदगी हमेशा से है। उनकी पूजा अर्चना का अधिकार भी कायम है।

‘800 सालों से नहीं पढ़ी गई नमाज’

हरिशंकर जैन ने कहा कि 800 सालों से भी ज्यादा वक्त से यहां नमाज नहीं पढ़ी गई (यहां सन्दर्भ कुव्वतुल इस्लाम मस्जिद से है)। बता दें कि इस मामले में सिविल कोर्ट ने प्लेसस ऑफ वर्शिप एक्ट के आधार पर याचिका खारिज कर दी थी। एएसआई के वकील सुभाष गुप्ता ने कहा कि याचिका स्वीकार करने लायक नहीं है। निचली अदालत का आदेश सही था।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बाइक सवारों ने पता पूछा फिर काट दिया गला

सीकर : अब राजस्थान के सीकर में उदयपुर जैसी वारदात हुई है। यहां भी एक युवक का गला काटा गया है। बताया जा रहा है आगे पढ़ें »

ऊपर