विपक्षी सदस्यों के आचरण से आहत हैं उपसभापति हरिवंश, करेंगे 24 घंटे का उपवास

नई दिल्ली: राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश ने विपक्षी सदस्यों के आपत्तिजनक आचरण पर गहरी पीड़ा जताते हुए मंगलवार को घोषणा की कि वह 24 घंटे का उपवास करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने उम्मीद जतायी कि इससे आपत्तिजनक आचरण करने वाले सदस्यों में ‘आत्म-शुद्धि’ का भाव जागृत होगा।

उच्च सदन की मर्यादा की धज्जियां उड़ायी गयीं
हरिवंश ने राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू को लिखे पत्र में कृषि संबंधी दो विधेयकों के पारित होने के दौरान रविवार को सदन में हुए हंगामे का जिक्र किया और कहा, ‘…सदस्यों द्वारा लोकतंत्र के नाम पर हिंसक व्यवहार किया गया। आसन पर बैठे व्यक्ति को भयभीत करने की कोशिश हुई। उच्च सदन की हर मर्यादा और व्यवस्था की धज्जियां उड़ायी गयीं।’ उन्होंने कहा, ‘20 सितंबर को राज्यसभा में जो कुछ भी हुआ उससे पिछले दो दिनों से गहरी आत्मपीड़ा, आत्मतनाव और मानसिक वेदना में हूं। पूरी रात सो नहीं पाया।’

22 सितंबर की सुबह से कल 23 सितंबर की सुबह
हरिवंश ने कहा कि 20 सितंबर को उच्च सदन में जो दृष्य उत्पन्न हुआ जिससे सदन और आसन की मर्यादा को अकल्पनीय क्षति हुई है। उन्होंने अपने पत्र में लिखा है, ‘मेरा यह उपवास इसी भावना से प्रेरित है। बिहार की धरती पर पैदा हुए राष्ट्रकवि दिनकर दो बार राज्यसभा के सदस्य रहे। कल 23 सितंबर को उनकी जन्मतिथि है। आज यानी 22 सितंबर की सुबह से कल 23 सितंबर की सुबह ‘राष्ट्र कवि’ रामधारी सिंह दिनकर के जन्मदिन पर मैं उपवास समाप्त करूंगा। मैं 24 घंटे का उपवास कर रहा हूं।’ कामकाज प्रभावित ना हो इसलिए उन्होंने कहा है ‘मैं उपवास के दौरान भी राज्यसभा के कामकाज में नियमित और सामान्य रूप से भाग लूंगा।’

राज्यसभा में 20 सितंबर को क्या हुआ था
संसदीय परंपरा एवं गरिमा को ताक पर रखते हुए रविवार को राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश के साथ उच्च सदन में विपक्षी दलों के सदस्यों ने दुर्व्यवहार किया था। कृषि संबंधी दो महत्वपूर्ण विधेयक पारित किए जाने के विरोध में विपक्षी सदस्य सभापति के आसन तक चले गये और उनके डेस्क पर रखी नियमावली को उठा कर हरिवंश की ओर फेंक दिया तथा सरकारी दस्तावेजों को फाड़ दिया। उल्लेखनीय है कि रविवार को सदन में हुए हंगामे को लेकर विपक्ष के 8 सदस्यों को मौजूदा सत्र के शेष समय के लिए निलंबित कर दिया गया था। निलंबित किए गए सदस्यों में कांगेस के राजीव सातव, सैयद नजीर हुसैन और रिपुन बोरा, तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन और डोला सेन, माकपा के केके रागेश और इलामारम करीम व आप के संजय सिंह शामिल हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

24 साल पुराने तिहरे हत्याकांड के 15 दोषियों को आज मिली सजा

फतेहपुर (उप्र) : जिले की एक अदालत ने 24 साल पहले हुए तिहरे हत्याकांड में दोषी पाए गए 15 दोषियों को उम्रकैद की सजा सुनाने आगे पढ़ें »

कृषि कानून के खिलाफ पंजाब विधानसभा में आप ने दिया धरना, सदन में ही गुजारी रात

- पंजाब विधानसभा में अमरिंदर सिंह सरकार पेश किया कृषि कानून के खिलाफ प्रस्ताव - आम आदमी पार्टी मसौदे की कॉपी ना मिलने पर नाराज, कहा आगे पढ़ें »

ऊपर